Tag - Yogasan

योगासन

शशांकासन – मानसिक तनाव कम करने का सर्वोत्तम आसान, जाने उचित विधि और लाभ

शशांकासन योग विधि, लाभ और सावधानी Shashankasana Yoga poses : आज का मानव सबसे ज़्यादा तनाव (Depression) और परेशानी से घिरा हुआ है। जिस कारण से वह कई रोगों से घिर...

योगासन

वज्रासन : वीर्य की गति उर्ध्व होने से शरीर वज्र जैसा बनता है

वज्रासन – Vajrasana Yoga Pose वज्र का अर्थ होता है कठोर और दूसरा यह कि इंद्र के एक शस्त्र का नाम वज्र था। इससे पैरों की जँघें मजबूत होती है। शरीर में...

योगासन

प्राणायाम : क्या है, कैसे करें, क्या है लाभ और कितने प्रकार का होता है ?

प्राणायाम | What Is Pranayama  प्राणस्य आयाम: इत प्राणायाम, श्वासप्रश्वासयो गतिविच्छेद: प्राणायाम – अर्थात प्राण की स्वाभाविक गति श्वास-प्रश्वास को रोकना...

योगासन

अनुलोम विलोम प्राणायाम : शरीर को स्वस्थ व शक्तिशाली बनाने के लिए करे प्राणायाम

अनुलोम विलोम प्राणायाम ~ Anulom Vilom Pranayam  अनुलोम –विलोम प्रणायाम (alternate nostril breathing) में सांस लेने व छोड़ने की विधि को बार-बार दोहराया जाता है।...

योगासन

सूर्य नमस्कार : शरीर को सही आकार देने और मन को शांत व स्वस्थ रखने का उत्तम तरीका

सूर्य नमस्कार क्या है  (Surya Namaskar in hindi) सूर्य नमस्कार योगासनों में सर्वश्रेष्ठ प्रक्रिया है। ‘सूर्य नमस्कार’ का शाब्दिक अर्थ सूर्य को...

मैडिटेशन

योग निद्रा करने की विधि और आध्यात्मिक लाभ

योग निद्रा और योगासन | Yoga Nidra & Yogasana योगासन अभ्यास शरीर में ऊर्जा का स्तर बढ़ाते हैं। योग निद्रा (yog nidra) इस ऊर्जा को संरक्षित एवं समेकित करती...

मैडिटेशन

सद्गुरु जग्गी वासुदेव के अनुसार मानसिक तनाव, डिप्रेशन, बेचैनी जैसी बीमारियां के है ये प्रमुख कारण

Depression in Hindi : पिछली पीढ़ी की तुलना में इस पीढ़ी में डिप्रेशन के मामलों में अचानक उछाल आया है। मानसिक तनाव, डिप्रेशन, बेचैनी जैसी कई बीमारियां आज काफी बढ़...

मैडिटेशन

सद्गुरु जग्गी वासुदेव द्वारा सिद्ध ईशा योग क्रिया ध्यान लगाने की सरल विधी

आध्यात्मिक विकास की संभावनाएं जो पहले केवल योगियों और संयासियों के लिए ही थी अब ईशा क्रिया के द्वारा सभी लोगों को उनके घर की सुख सुविधा में बैठे प्राप्त हो...

योगासन

पवनमुक्तासन : पेट से जुड़ी हर समस्या को दूर करने के लिए योगासन

शरीर में स्थित पवन (वायु) यह आसन करने से मुक्त होता है। इसलिए इसे पवनमुक्तासन कहा जाता है। ध्यान मणिपुर चक्र में। श्वास पहले पूरक फिर कुम्भक और रेचक। विधि : ...

योगासन

कर्ण पीडासन : मधुमेह और हर्निया से पीड़ित लोगो के लिए सर्वोत्तम योगासन

‘कर्ण’ का अर्थ है ‘कान‘, ‘पीड‘ का अर्थ है ‘दबाना‘। इस आसन में घुटनों द्वारा दोनों कान दबाए जाते हैं। इसलिए इस...

Search Kare

सर्वाधिक पढ़ी जाने वाली पोस्ट

bhaktisanskar-english

Subscribe Our Youtube Channel