यजुर्वेदोप्रथमोध्याय (यजुर्वेद का प्रथम अध्याय)

यजुर्वेद – प्रथम अध्याय (Yajurved ka Pratham Adhyay hindi) हे यज्ञ साधनों! अन्न की प्राप्ति के लिए सविता देव आपको आगे बढ़ाये। सृजन कर्त्ता परमात्मा आपको तेजस्वी बनने के लिए प्रेरित करें। आप सभी प्राण स्वरूप हों। सृजन कर्त्ता परमेश्वेर श्रेष्ठ कर्म......

शरीर में सन्निहित शक्ति-केंद्र या चक्र

आपके अंदर जो सुषुप्त केंद्र हैं उनको विकसित करने के किये श्रृंगार होता है । हमारे शरीर में सात केंद्र हैं। १) मूलाधार केंद्र :  जन्म से लेकर सात साल तक मूलाधार केंद्र विकसित होता है, यदि सात वर्ष की उम्र तक बच्चे की निरोगता का ख्याल रखा जाये, तुलसी......




ज्ञानयोग

जैसे गोताखोर मोती पाने के लिए समुद्र में डुबकी लगाता है वैसे ही दार्शनिक प्रकृति का व्यक्ति परमात्मा को ज्ञान मार्ग से पाना चाहता है । वह इस संसार की छोटी-छोटी वस्तुओं से सन्तुष्ट होने वाला मनुष्य नहीं है । अनेक ग्रन्थों के अवलोकन से भी उसे......

अग्नि पुराण – जीवन की गूढ़ विद्याओ के रहस्य का भंडार

अग्नि पुराण ज्ञान का विशाल भण्डार है। स्वयं अग्निदेव ने इसे महर्षि वसिष्ठ को सुनाते हुए कहा था- आग्नेये हि पुराणेऽस्मिन् सर्वा विद्या: प्रदर्शिता: अर्थात ‘अग्नि पुराण‘ में सभी विद्याओं का वर्णन है। आकार में लघु होते हुए भी विद्याओं के......

पदमपुराण : कर्मकाण्डों की बजाय सदाचार और परोपकार से होगा मनुष्य दीर्घजीवी

   ‘पद्म पुराण’ हिन्दू धर्म के प्रसिद्ध धार्मिक ग्रंथों में विशाल पुराण है। केवल स्कन्द पुराण ही इससे बड़ा है। इस पुराण के श्लोकों |श्लोक की संख्या पचास हज़ार है। वैसे तो इस पुराण से संबंधित सभी विषयों का वर्णन स्थान विशेष पर आ गया है......




प्राणायाम के प्रकार और उनको करने की शास्त्रोक्त विधी

प्राणायाम आरम्भ करने की विधि :  Pranayama in Hindi :  जब भी आप प्राणायाम करे आप की रीढ़ की हड्डी सीधी होनी चाहिए इसके लिए आप किसी भी ध्यानात्मक आसन में बैठ जाये जैसे सिद्धासन, पझासन, सुखासन, वज्रासन, आदि यदि आप किसी भी आसन में नहीं बैठ सकते तो कुर्सी......

ज्ञानयोग

जैसे गोताखोर मोती पाने के लिए समुद्र में डुबकी लगाता है वैसे ही दार्शनिक प्रकृति का व्यक्ति परमात्मा को ज्ञान मार्ग से पाना चाहता है । वह इस संसार की छोटी-छोटी वस्तुओं से सन्तुष्ट होने वाला मनुष्य नहीं है । अनेक ग्रन्थों के अवलोकन से भी उसे......

error: Content is protected !!