राशिफल 2018

सूर्य ग्रहण 2018 – 13 जुलाई को साल का दूसरा सूर्यग्रहण, जानें समय और राशि पर प्रभाव

solar-eclipse-2018

सूर्य ग्रहण 2018 – Solar Eclipse – 2018 में कब लगेगा सूर्य ग्रहण ?

Table of Contents

ग्रहण इस शब्द में ही नकारात्मकता झलकती है। एक प्रकार के संकट का आभास होता है, लगता है जैसे कुछ अनिष्ट होगा। ग्रहण एक खगोलीय घटना मात्र नहीं हैं एक और जहां इसका वैज्ञानिक महत्व है तो दूसरी और ज्योतिषाचार्यों के अनुसार यह एक आध्यात्मिक घटना होती है जिसका जगत के समस्त प्राणियों पर काफी प्रभाव पड़ता है। विशेषकर सूर्य ग्रहण एवं चंद्र ग्रहण का। साल 2018 में तीन सूर्य ग्रहण लगेंगें। हालांकि यह आंशिक ग्रहण होंगे। आइये जानते हैं कब कब यह सूर्य ग्रहण लगेंगे और कहां कहां इन्हें देखा जा सकेगा। साथ ही इस लेख में आप जानेंगें कि सूर्य ग्रहण के दौरान क्या-क्या सावधानियां आपको रखनी चाहिये। ग्रहण के दुष्प्रभाव से बचने व अपने जीवन को समृद्ध बनाने के लिये सूर्य ग्रहण के समय अपनी कुंडली के अनुसार ज्योतिषीय उपाय भी किये जाते हैं।

कब लगता है सूर्यग्रहण

वैज्ञानिकों के अनुसार जब पृथ्वी चंद्रमा व सूर्य एक सीधी रेखा में हों तो उस अवस्था में सूर्य को चांद ढक लेता है जिस सूर्य का प्रकाश या तो मध्यम पड़ जाता है या फिर अंधेरा छाने लगता है इसी को सूर्य ग्रहण कहा जाता है।

कितने प्रकार का होता है सूर्य ग्रहण

पूर्ण सूर्य ग्रहण –

जब पूर्णत: अंधेरा छाये तो इसका तात्पर्य है कि चंद्रमा ने सूर्य को पूर्ण रूप से ढ़क लिया है इस अवस्था को पूर्ण सूर्यग्रहण कहा जायेगा।

खंड या आंशिक सूर्य ग्रहण –

जब चंद्रमा सूर्य को पूर्ण रूप से न ढ़क पाये तो तो इस अवस्था को खंड ग्रहण कहा जाता है। पृथ्वी के अधिकांश हिस्सों में अक्सर खंड सूर्यग्रहण ही देखने को मिलता है।

वलयाकार सूर्य ग्रहण –

वहीं यदि चांद सूरज को इस प्रकार ढके की सूर्य वलयाकार दिखाई दे यानि बीच में से ढका हुआ और उसके किनारों से रोशनी का छल्ला बनता हुआ दिखाई दे तो इस प्रकार के ग्रहण को वलयाकार सूर्य ग्रहण कहा जाता है। सूर्यग्रहण की अवधि भी कुछ ही मिनटों के लिये होती है। सूर्य ग्रहण का योग हमेशा अमावस्या के दिन ही बनता है।

2018 में कब लगेगा सूर्य ग्रहण?

2018 का दूसरा सूर्यग्रहण 13 जुलाई को तो तीसरा 11 अगस्त को लगेगा। हालांकि यह आंशिक सूर्य ग्रहण रहेगा। 2018 का पहला सूर्य ग्रहण 16 फरवरी को लगा था।जुलाई और अगस्त माह में पड़ने वाले सूर्य ग्रहण लगातार हैं। हालांकि यह ग्रहण आंशिक सूर्य ग्रहण हैं साथ ही इन्हें भारत में नहीं देखा जा सकेगा। हालांकि दुनिया अन्य कई हिस्सों में इन्हें देखा जा सकेगा।

यह भी जरूर पढ़े –

सूर्य ग्रहण 2018 का 12 राशियों पर प्रभाव

मेष: आय में वद्धि होगी

इन राशि वालों को मित्रों से लाभ मिल सकता है। किसी स्त्री मित्र से इन्हें अच्छा सहयोग मिलेगा और इससे विशेष लाभ प्राप्त कर सकते हैं। आय में वृद्धि के योग बनेंगे और खान-पान के अच्छे संयोग बनेंगे।

वृष: व्यर्थ व्यय की आशंका

सूर्य ग्रहण के प्रभाव से आपके स्वास्थ्य में गिरावट आ सकती है। स्त्रियों और जलस्रोत से दूर रहें। व्यर्थ व्यय हो सकता है और अनिद्रा की समस्या हो सकती है।

मिथुन: महिला से मिल सकता है लाभ

कार्यक्षेत्र में लाभ के योग हैं। परिजनों के साथ विवाद न हो, इसके लिए व्यर्थ की बहस में न पड़ें। मन में किसी बात को लेकर दुविधा रहेगी। कार्यक्षेत्र में कोई महिला आपकी बड़ी मदद कर सकती है।

कर्क: शुभ समाचार मिलने के योग

मित्रों अथवा परिजनों के साथ व्यवहार में संयम बरतने की आवश्कता है, अन्यथा किसी बात को लेकर मनमुटाव हो सकता है। वाहन चलाते समय सावधान रहें। किसी शुभ समाचार की प्राप्ति के योग हैं।

सिंह: मेहनत अधिक करनी होगी

नौकरी और व्यवसाय में उन्नति के योग बन रहे हैं। घर-परिवार में भी खुशी का माहौल रहेगा। कुछ कार्यों को पूर्ण करने के लिए आपको थोड़ी मेहनत अधिक करनी पड़ सकती है।

कन्या: कोर्ट-कचहरी के मामलों में सफलता के योग

यह वक्त आपके लिए सरकारी कार्यों को निपटाने का है। यदि कोर्ट कचहरी में आपका कोई मामला लंबित है तो आपको इस वक्त उसको निपटाने के प्रयास करने चाहिए। मामला सुलझने के योग हैं। व्यापारियों के लिए मुश्किल वक्त हो सकता है।

तुला: दांपत्य जीवन में आ सकती है परेशानी

इस वक्त आपके दांपत्य जीवन में थोड़ी दूरियां आ सकती हैं। आर्थिक स्थिति भी थोड़ी गड़बड़ा सकती है। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी और मित्रों से लाभ होगा।

वृश्चिक: कार्यक्षेत्र में हो सकता है विवाद

शरीर में आलस्य हो सकता है। कार्यक्षेत्र में किसी सहयोगी या संबंधित अधिकारी के साथ किसी बात को लेकर विवाद हो सकता है। लंबे समय से प्रयासरत लोगों के लिए विदेश जाने के योग हैं।

धनु: दिनचर्या पर रखें संयम

यह समय आपके लिए थोड़ा सा मुश्किल हो सकता है। आपको अपनी दिनचर्या पर संयम रखते हुए प्रभु के भजन-कीर्तन में मन लगाना चाहिए। संतान को लेकर किसी प्रकार की चिंता से मन परेशान हो सकता है।

मकर: खर्च की अधिकता

भले ही यह सूर्य ग्रहण आपकी राशि में अधिक खर्च के योग दिखा रहा है,, लेकिन इसके साथ आपको आर्थिक लाभ होने के भी संकेत मिल रहे हैं। इस वक्त लाभ की प्राप्ति के लिए आपको मेहनत अधिक करनी पड़ सकती है।

कुंभ: पैसों की तंगी

इस वक्त आपको आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ सकता है। हालांकि बीमार व्यक्तियों की हालत में सुधार के संकेत दिख रहे हैं। कार्यक्षेत्र में किसी से अनबन न हो, इस बात का ध्यान रखें।

मीन: पदोन्नति के योग

सूर्य ग्रहण के प्रभाव से आप कार्यक्षेत्र में बेहतर प्रदर्शन करेंगे और परिणामस्वरूप आपको पदोन्नति मिलने के योग हैं। संतान के संबंध में कोई खुशखबरी मिल सकती है।

सूर्य ग्रहण पर क्या रखें सावधानियां

ग्रहण काल के समय खाना न खांए न ही कुछ पीयें, प्रभु का स्मरण करते हुए पूजा, जप, दान आदि धार्मिक कार्य करें। इस समय नवग्रहों का दान करना भी लाभकारी रहेगा। जो विद्यार्थी अच्छा परिणाम चाहते हैं वे ग्रहण काल में पढाई शुरु न करें बल्कि ग्रहण के समय से पहले से शुरु कर ग्रहण के दौरान करते रहें तो अच्छा रहेगा।

घर में बने पूजास्थल को भी ग्रहण के दौरान ढक कर रखें। ग्रहण से पहले रात्रि भोज में से खाना न ही बचायें तो अच्छा रहेगा। यदि दुध, दही या अन्य तरल पदार्थ बच जांयें तो उनमें तुलसी अथवा कुशा डालकर रखें इससे ग्रहण का प्रभाव उन पर नहीं पड़ेगा। ग्रहण समाप्ति पर पूजा स्थल को साफ कर गंगाजल का छिड़काव करें, देव मूर्ति को भी गंगाजल से स्नान करवायें व तदुपरांत भोग लगायें।

 

About the author

Abhishek Purohit

Hello Everybody, I am a Network Professional & Running My Training Institute Along With Network Solution Based Company and I am Here Only for My True Faith & Devotion on Lord Shiva. I want To Share Rare & Most Valuable Content of Hinduism and its Spiritualism. so that young generation May get to know about our religion's power

Add Comment

Click here to post a comment

Author’s Choices

हर कष्टों के निवारण के लिए जपे ये हनुमान जी के मंत्र, श्लोक तथा स्त्रोत

सूर्य नमस्कार : शरीर को सही आकार देने और मन को शांत व स्वस्थ रखने का उत्तम तरीका

कपालभाति प्राणायाम : जानिए करने की विधि, लाभ और सावधानियाँ

डायबिटीज क्या है, क्यों होती है, कैसे बचाव कर सकते है और डाइबटीज (मधुमेह) का प्रमाणित घरेलु उपचार

कोलेस्ट्रोल : कैसे करे नियंत्रण, घरेलु उपचार, बढ़ने के कारण और लक्षण

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग : उत्तराखंड के चार धाम यात्रा में सबसे प्रमुख और सर्वोच्च ज्योतिर्लिंग

गृह प्रवेश और भूमि पूजन, शुभ मुहूर्त और विधिपूर्वक करने पर रहेंगे दोष मुक्त और लाभदायक

लघु रुद्राभिषेक पूजा : व्यक्ति के कई जन्मो के पाप कर्मो का नाश करने वाली शिव पूजा

तो ये है शिव के अद्भुत रूप का छुपा गूढ़ रहस्य, जानकर हक्के बक्के रह जायेंगे

शिव मंत्र पुष्पांजली तथा सम्पूर्ण पूजन विधि और मंत्र श्लोक

श्रीगणेश प्रश्नावली यंत्र के 64 अंकों से जानिए अपनी परेशानियों का हल