Category - योगासन

योगासन

पवनमुक्तासन : पेट से जुड़ी हर समस्या को दूर करने के लिए योगासन

शरीर में स्थित पवन (वायु) यह आसन करने से मुक्त होता है। इसलिए इसे पवनमुक्तासन कहा जाता है। ध्यान मणिपुर चक्र में। श्वास पहले पूरक फिर कुम्भक और रेचक। विधि :  भूमि पर बिछे हुए......

योगासन

कर्ण पीडासन : मधुमेह और हर्निया से पीड़ित लोगो के लिए सर्वोत्तम योगासन

‘कर्ण’ का अर्थ है ‘कान‘, ‘पीड‘ का अर्थ है ‘दबाना‘। इस आसन में घुटनों द्वारा दोनों कान दबाए जाते हैं। इसलिए इस आसन का नाम ‘कर्णपीड़ासन‘ है। विधि :  स्वच्छ व......

योगासन

कपाल भाति प्राणायाम : पाचन शक्ति को दुरुस्त करने के लिए करे प्राणायाम

यह सांस लेने संबंधी प्राणायाम का ही एक रूप है जो शरीर में ऑक्सिजन ले जाने और पेट की पेशियों को मज़बूत करने का काम करता है। यह पेट की चर्बी को कम करता है और पाचन शक्ति को......

योगासन

अनुलोम विलोम प्राणायाम : शरीर को स्वस्थ व शक्तिशाली बनाने के लिए करे प्राणायाम

अनुलोम –विलोम प्रणायाम में सांस लेने व छोड़ने की विधि को बार-बार दोहराया जाता है। इस प्राणायाम को ‘नाड़ी शोधक प्राणायाम’ भी कहते है। अनुलोम-विलोम को रोज करने से शरीर की......

योगासन

वृक्षासन : मानसिक तनाव को दूर करने के लिए करे योगासन

इससे पैरों की स्थिरता और मजबूती का विकास होता है। यह कमर और कुल्हों के आस पास जमीं अतिरिक्त चर्बी को हटाता है तथा दोनों ही अंग इससे मजबूत बने रहते हैं। इस सबके कारण इससे मन......

योगासन

उर्ध्वोत्तानासन : मोटापे व चर्बी को घटाने के लिए करे उर्ध्वोत्तानासन

आसन परिचय :  उर्ध्व का अर्थ होता है ऊपर और तान का अर्थ तानना अर्थात शरीर को ऊपर की और तानना ही उर्ध्वोत्तानासन है। अनजाने में ही व्यक्ति कभी-कभी आलसवश दोनों हाथ ऊपर करके शरीर......

योगासन

मयूरासन : फेफड़ो व हाथों को मजबूत बनाने के लिए करे योगासन

इस आसन में मयूर अर्थात मोर की आकृति बनती है, इससे इसे मयूरासन कहा जाता है। ध्यान मणिपुर चक्र में। श्वास बाह्य कुम्भक। विधिःजमीन पर घुटने टिकाकर बैठ जायें। दोनों हाथ की......

योगासन

शीतलि प्राणायाम : उच्च रक्त्चाप को कम करने के लिए करे शीतलि प्राणायाम

ध्यानात्मक आसन में बैठकर हाथ घुटने पर रखे ! जिव्हा को नालीनुमा मोड़कर मुँह खुला हुए मुँह से पूरक करें जिव्हा से धीरे धीरे स्वास लेकर फेफड़ो को पूरा भरे कुछ षण रोककर मुँह को......

योगासन

ताड़ासन : बच्चों की शारीरिक ग्रोथ बढ़ाने के लिए करे योगासन

इससे शरीर की स्थिति ताड़ के पेड़ के समान हो जाती है, इसीलिए इसे ताड़ासन कहते हैं। ताड़ासन के कई लाभ है। यह आसन खड़े होकर किया जाता है। ताड़ासन और वृक्षासन में थोड़ा सा ही......

योगासन

सिद्धासन : हृदय रोग व श्वास के रोग से मुक्ति पाने के लिए करे योगासन

पद्मासन के बाद सिद्धासन का स्थान आता है। अलौकिक सिद्धियाँ प्राप्त करने वाला होने के कारण इसका नाम सिद्धासन पड़ा है। सिद्ध योगियों का यह प्रिय आसन है। यमों में ब्रह्मचर्य......

error: Content is protected !!