Category - उपनिषद

उपनिषद

मुण्डकोपनिषद

मुण्डकोपनिषद अथर्ववेद की शौनकीय शाखा से सम्बन्धित है। इसमें अक्षर-ब्रह्म 'ॐ: का विशद विवेचन किया गया है। इसे 'मन्त्रोपनिषद' नाम से भी पुकारा जाता है। इसमें तीन मुण्डक हैं और प्रत्येक मुण्डक के दो-दो खण्ड हैं तथा कुल चौंसठ मन्त्र......

उपनिषद

तैत्तिरीय उपनिषद

कृष्ण यजुर्वेद शाखा का यह उपनिषद तैत्तिरीय आरण्यक का एक भाग है। इस आरण्यक के सातवें, आठवें और नौवें अध्यायों को ही उपनिषद की मान्यता प्राप्त हैं इस उपनिषद के रचयिता......

उपनिषद

बृहदारण्यकोपनिषद

यह उपनिषद शुक्ल यजुर्वेद की काण्व-शाखा के अन्तर्गत आता है। 'बृहत' (बड़ा) और 'आरण्यक' (वन) दो शब्दों के मेल से इसका यह 'बृहदारण्यक' नाम पड़ा है। इसमें छह अध्याय हैं और प्रत्येक......

उपनिषद

छान्दोग्य उपनिषद

सामवेद की तलवकार शाखा में इस उपनिषद को मान्यता प्राप्त है। इसमें दस अध्याय हैं। इसके अन्तिम आठ अध्याय ही इस उपनिषद में लिये गये हैं। यह उपनिषद पर्याप्त बड़ा है। जाने......

उपनिषद

केनोपनिषद

सामवेदीय 'तलवकार ब्राह्मण' के नौवें अध्याय में इस उपनिषद का उल्लेख है। यह एक महत्त्वपूर्ण उपनिषद है। इसमें 'केन' (किसके द्वारा) का विवेचन होने से इसे 'केनोपनिषद' कहा गया है।......

उपनिषद

कठोपनिषद

कृष्ण यजुर्वेद शाखा का यह उपनिषद अत्यन्त महत्त्वपूर्ण उपनिषदों में है। इस उपनिषद के रचयिता कठ नाम के तपस्वी आचार्य थे। वे मुनि वैशम्पायन के शिष्य तथा यजुर्वेद की कठशाखा......

उपनिषद

उपनिषद्

वेदों को एक भिन्न आधार पर निम्नलिखित दो भागों में बांटा जाता है: - संहिता या मंत्र में वैदिक देवी देवताओं की स्तुति के मंत्र हैं | - ब्राह्मण - इनमें सभी मंत्रों, कर्मकाण्ड और......

Copy Protected by Nxpnetsolutio.com's WP-Copyprotect.