Category - उपनिषद

उपनिषद

मुण्डकोपनिषद – मस्तिक्ष को अत्यधिक शक्ति देने वाला

मदकू द्वीप मुण्डकोपनिषद के रचयिता ऋषि माण्डूक्य की तप स्थली रही है। यही पर उन्होंने इसकी रचना करी थी, मुण्डकोपनिषद अथर्ववेद की शौनकीय शाखा से सम्बन्धित है। इसमें......

उपनिषद

कठोपनिषद – नचिकेता और यमराज का संवाद

कठोपनिषद – नचिकेता और यमराज का संवाद –  Kathopnishad in hindi pdf १. शान्तिपाठ ॐ सह नाववतु। सह नौ भुनक्तु। सह वीर्यं कर वावहै। तेजस्वि नावधीतमस्तु। मा विद्विषावहै। ॐ शांति: शांति:......

उपनिषद

उपनिषद – वैदिक दर्शन के प्रतिपादक ग्रन्थ

उपनिषद वैदिक दर्शन के प्रतिपादक ग्रन्थ हैं। वैदिक साहित्य में सबसे अंत में परिगणित होने के कारण तथा उच्च दार्शनिक चिंतन के कारण इन्हें वेदांत भी कहा जाता है। सम्प्रति......

उपनिषद

तैत्तिरीय उपनिषद

कृष्ण यजुर्वेद शाखा का यह उपनिषद तैत्तिरीय आरण्यक का एक भाग है। इस आरण्यक के सातवें, आठवें और नौवें अध्यायों को ही उपनिषद की मान्यता प्राप्त हैं इस उपनिषद के रचयिता......

उपनिषद

बृहदारण्यकोपनिषद

यह उपनिषद शुक्ल यजुर्वेद की काण्व-शाखा के अन्तर्गत आता है। ‘बृहत’ (बड़ा) और ‘आरण्यक’ (वन) दो शब्दों के मेल से इसका यह ‘बृहदारण्यक’ नाम पड़ा है। इसमें छह अध्याय हैं......

उपनिषद

छान्दोग्य उपनिषद

सामवेद की तलवकार शाखा में इस उपनिषद को मान्यता प्राप्त है। इसमें दस अध्याय हैं। इसके अन्तिम आठ अध्याय ही इस उपनिषद में लिये गये हैं। यह उपनिषद पर्याप्त बड़ा है। जाने......

उपनिषद

केनोपनिषद

सामवेदीय ‘तलवकार ब्राह्मण’ के नौवें अध्याय में इस उपनिषद का उल्लेख है। यह एक महत्त्वपूर्ण उपनिषद है। इसमें ‘केन’ (किसके द्वारा) का विवेचन होने से इसे......

उपनिषद

कठोपनिषद – अत्यन्त महत्त्वपूर्ण उपनिषदों में से एक

Kathopnishad in hindi pdf : कृष्ण यजुर्वेद शाखा का यह उपनिषद अत्यन्त महत्त्वपूर्ण उपनिषदों में है। इस उपनिषद के रचयिता कठ नाम के तपस्वी आचार्य थे। वे मुनि वैशम्पायन के शिष्य तथा यजुर्वेद......

उपनिषद

उपनिषद् – वास्तविक वैदिक दर्शन का सार

वेदों को एक भिन्न आधार पर निम्नलिखित दो भागों में बांटा जाता है:  संहिता या मंत्र में वैदिक देवी देवताओं की स्तुति के मंत्र हैं | ब्राह्मण – इनमें सभी मंत्रों......

Copy Protected by Nxpnetsolutio.com's