Category - योग

योग

प्राणयाम में उपयोगी बन्धत्रय

Yogasan प्राणायाम एव बंधो के द्वारा हमारे शरीर से जिस शक्ति का बहिर्गमन होता है , उसे रोककर अन्तमुर्खी करते है बंध का अर्थ ही है बांधना, रोकना ये बंध प्राणायाम में अत्यंत सहायक हे | बिना बंध के प्राणायाम अधूरे है इन बंधो का क्रमशः वर्णन करते है......

योग

ध्यान योग की सरलतम विधियां

जो लोग शरीर के तल पर ज्यादा संवेदनशील हैं, उनके लिए ऐसी विधियां हैं जो शरीर के माध्यम से ही आत्यंतिक अनुभव पर पहुंचा सकती हैं। जो भाव-प्रवण हैं, भावुक प्रकृति के हैं, वे......

योग

प्राणायाम की सम्पूर्ण प्रक्रिया

यघपि प्राणायाम की विभिन्न विधियाँ शास्त्रो में वर्णित हे और प्रत्येक  Pranayama का अपना एक विशेष महत्व है तथापि सभी प्राणायामों का व्यक्ति प्रतिदिन अभ्यास नहीं कर सकता अतः......

योग

उपयोगी प्राणायाम

प्राणायाम आरम्भ करने की विधि :  जब भी आप प्राणायाम करे आप की रीढ़ की हड्डी सीधी होनी चाहिए इसके लिए आप किसी भी ध्यानात्मक आसन में बैठ जाये जैसे सिद्धासन, पझासन, सुखासन......

योग

ध्यान विधि

meditation | mental peace | meditation techniques | meditation tips | meditation benefitsकैसे करें ध्यान? यह महत्वपूर्ण सवाल है। यह उसी तरह है कि हम पूछें कि कैसे श्वास लें, कैसे जीवन जीएं, आपसे सवाल पूछा जा सकता है कि क्या......

योग

ध्यान के 100 लाभ

meditation | spiritual | yog | mental peace | meditation techniques | meditation tipsनियमित meditation अभ्यास के लाभों में अनेक प्रकार से सूचित किया गया है। ध्यान अभ्यास से मन का तनाव कम, शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली का मजबूत......

योग

ध्यान से व्यक्तिगत और आध्यात्मिक लाभ

ध्यान साधना क्या है? हमारे समक्ष पहला प्रश्न है: ध्यान साधना क्या है? ध्यान साधना और अधिक हितकारी मनोदशा या रवैया विकसित करने के लिए स्वयं को अभ्यस्त बनाने की विधि है। यह......

योग

Yoga in Hindi | Types of Yoga

परिभाषा : -  योग का शाब्दिक अर्थ है - जोड़, सम्बन्ध या मिलन| प्रत्येक व्यक्ति का किसी न किसी व्यक्ति, वस्तु, वौभव से योग होता ही है| पिता-पुत्र, पति-पत्नी का आपस में लौकिक सम्बन्ध......

योग

अष्टांग योग

गणित की संख्याओं को जोड़ने के लिए भी ' yog ' शब्द का प्रयोग किया जाता है परन्तु  spiritual  पृष्ठ भूमि में जब 'योग' शब्द का प्रयोग किया जाता है तब उसका अर्थ आत्मा को परमात्मा से जोड़ना......

योग

कर्मयोग

इसमें कर्म के द्वारा ईश्वर की प्राप्ति की जाती है । श्रीमद्भगवद्गीता में कर्मयोग को सर्वश्रेष्ठ माना गया है । गृहस्थ और कर्मठ व्यक्ति के लिए यह योग अधिक उपयुक्त है । हममें......

Copy Protected by Nxpnetsolutio.com's WP-Copyprotect.