Category - मंत्र-श्लोक-स्त्रोतं

मंत्र-श्लोक-स्त्रोतं

विशेष उद्देश्य तथा प्रयोजन सिद्धि हेतु गायत्री मंत्र का जाप (सम्पुट विधि)

शास्त्रों में प्रत्येक मंत्र को अति प्रभावकारी और फलदायी माना गया है, तथा प्रत्येक मंत्र की कुछ सीमाएं और परिमाप होता है और उनके लिए साधक को पूर्ण सावधानी रखने की आवश्यकता......

मंत्र-श्लोक-स्त्रोतं

चमत्कारी है राम रक्षा स्त्रोत -मुर्दे में भी जान डाल देता है

राम रक्षा स्त्रोत  (Ram Raksha Strot Mp3 Downlaod in Hindi) को ग्यारह बार एक बार में पढ़ लिया जाए तो पूरे दिन तक इसका प्रभाव रहता है। अगर आप रोज ४५ दिन तक राम रक्षा स्त्रोत का पाठ करते हैं तो इसके फल......

मंत्र-श्लोक-स्त्रोतं

श्रीमद उच्छिष्ठमहागणपती का कवच

ओम श्रीमदउच्छिष्ठ महागणाधिपतये नमो नम।। ओम हस्तिपिशाचीलिखे स्वाहा । ओम हृीं गं हस्तिपिशाची लिखे स्वाहा अथ श्रीमद उच्छिष्ठ गणपती कवचम् । देव उवाच ।। देवदेव जगन्नाथ......

मंत्र-श्लोक-स्त्रोतं

हनुमानजी के चमत्कारिक और सर्व कष्टनिवारक सिद्ध मंत्र

श्री हनुमान मूल मंत्र: ॐ ह्रां ह्रीं ह्रं ह्रैं ह्रौं ह्रः॥ द्वादशाक्षर हनुमान मंत्र: हं हनुमते रुद्रात्मकाय हुं फट्। फल: से इस मंत्र के बारे शास्त्रो में वर्णित हैं की यह......

मंत्र-श्लोक-स्त्रोतं

सिद्ध कुंजिका स्तोत्र

शिव उवाचः- शृणु देवि प्रवक्ष्यामि कुंजिकास्तोत्रमुत्तमम् । येन मन्त्रप्रभावेण चण्डीजापः भवेत् ॥1॥ न कवचं नार्गलास्तोत्रं कीलकं न रहस्यकम् । न सूक्तं नापि ध्यानं च न......

मंत्र-श्लोक-स्त्रोतं

श्री कृष्ण भगवान् के इन मंत्रो से दूर करे अपने जीवन की समस्याएं

बाल-गोपाल lord krishna के mantra ना सिर्फ आर्थिक समस्या दूर करते हैं बल्कि जीवन की हर परेशानी में कान्हा के चमत्कारी मंत्र सहायक सिद्ध होते हैं। चाहे संतान प्राप्ति हो या घर में होने......

मंत्र-श्लोक-स्त्रोतं

24 देवताओं के 24 चमत्कारी मंत्र

      hindu mantras | mantra words | chalisa | gaytri mantra | hindu religion | Hinduismhindu dharm के अनुसार ताकत, सफलता व इच्छाएं पूरी करने के लिए इष्टसिद्धि बहुत आवश्यक है इष्टसिद्धि का मतलब है कि व्यक्ति जिस देव शक्ति के......

मंत्र-श्लोक-स्त्रोतं

मृत्यु पर विजय दिलाने वाला : महामृत्युंजय मंत्र

के 33 अक्षर हैं जो महर्षि  वशिष्ठ के अनुसार 33 कोटि(प्रकार) देवताओं के द्योतक हैं उन तैंतीस देवताओं में 8 वसु 11 रुद्र और 12 आदित्यठ 1 प्रजापति तथा 1 षटकार हैं। इन तैंतीस कोटि......

मंत्र-श्लोक-स्त्रोतं

केतु अष्टोत्तरशतनामावलि

केतु बीज मन्त्र - ॐ स्राँ स्रीं स्रौं सः केतवे नमः || ॐ केतवे नमः || ॐ स्थूलशिरसे नमः || ॐ शिरोमात्राय नमः || ॐ ध्वजाकृतये नमः || ॐ नवग्रहयुताय नमः || ॐ सिंहिकासुरीगर्भसंभवाय नमः || ॐ......

मंत्र-श्लोक-स्त्रोतं

राहु अष्टोत्तरशतनामावलिः

राहु बीज मन्त्र - ॐ भ्राँ भ्रीं भ्रौं सः राहवे नमः || ॐ राहवे नमः || ॐ सैंहिकेयाय नमः || ॐ विधुन्तुदाय नमः || ॐ सुरशत्रवे नमः || ॐ तमसे नमः || ॐ फणिने नमः || ॐ गार्ग्यनयाय नमः || ॐ......

error: Content is protected !!