hawan-kund-yagya-aahuti

पंचमहायज्ञ क्यों ? हमारे हिन्दू धर्म (Hindu Dharma) और वेद- पुराण (Ved-Puran) के अनुसार प्रत्येक परिवार में स्वयं के लिए संध्या, कुटुंब कल्याण के लिए देेव पूजा एवं ऋण मुक्त होकर उत्कुष्ट संस्कार प्राप्ति के लिए पंचमहायज्ञ की आवश्यकता होती है।...

Read More
वेद

क्या अथर्ववेद में जादू- टोना है ? जाने अर्थवेद के मणि सूक्त रहस्य को

समाज में फैल रहे अन्धविश्वास को देखकर बुद्धिजीवी वर्ग का व्यक्ति सोचता हैं की इस जादू टोने, टोटके, तंत्र-मंत्र की मूल जड़ का अगर नाश कर दिया जाये तो समाज...

आध्यात्मिक गुरु

श्री देवकीनन्दन ठाकुर जी महाराज : प्राचीन संस्कृति, संस्कार, और सामाजिक जिम्मेदारी की प्रति जागरूक करते महाराज श्री

पृष्ठभूमि- 12 सितम्बर 1978 को श्री कृष्ण जी की जन्मभूमि मथुरा के माॅंट क्षेत्र के ओहावा ग्राम में एक ब्राहम्ण परिवार में जन्में श्री देवकीनन्दन ठाकुर जी अपने...

पुराण

पदमपुराण : कर्मकाण्डों की बजाय सदाचार और परोपकार से होगा मनुष्य दीर्घजीवी

   ‘पद्म पुराण’ हिन्दू धर्म के प्रसिद्ध धार्मिक ग्रंथों में विशाल पुराण है। केवल स्कन्द पुराण ही इससे बड़ा है। इस पुराण के श्लोकों |श्लोक की संख्या...

उपनिषद

माण्डूक्योपनिषद : के अनुसार समस्त भूत भविष्य और वर्तमान ओमकार (ओउम) मे ही निहित है

माण्डूक्योपनिषद हे देवगण! हम कानों से कल्याणमय वचन सुने। यज्ञ कर्म में समर्थ होकर नेत्रों से शुभ दर्शन करें तथा अपने स्थिर अंग और शरीरों से स्तुति करने वाले हम...

उपनिषद

प्रश्नोपनिषद : महर्षि पिप्पलाद और ६ ऋषियों के बीच हुवे आध्यात्मिक प्रश्नोत्तरी का संकलन

१ शान्तिपाठ ॐ भद्रं कर्नेभि श्रृणुयाम देवा भद्रं पश्येमाक्षभिर्यजत्रा:। स्थिरैरंगैस्तुष्टुवासस्नुभिर्व्यशेम देवहितं यदायु॥ ॐ शान्तिः! शान्तिः! शान्तिः...

उपनिषद

अथर्ववेदोपनिषद : कई महान उपनिषद का स्त्रोत

अर्थवेद के उपनिषद प्रश्नोपनिषद ……………………………… यह अथर्ववेद की पैप्पलाद शाखा से सम्बद्ध उपनिषद है। यह उपनिषद ६ ऋषि महर्षि पिप्पलाद से अध्यात्म-विषयक प्रश्न पूछते...

उपनिषद

कृष्णयजुर्वेदीयोपनिषद : ब्रह्म आनंद और सत्य ज्ञान की महिमा मंडित करता विशिष्ट उपनिषद

कृष्ण यजुर्वेद के उपनिषद तैत्तिरीयोपनिषद ………………………… कृष्ण आयुर्वेद की तैत्तिरीय शाखा के तैत्तिरीय आरण्यक के सप्तम से नवं प्रपाठक को तैत्तिरीयोपनिषद कहते है।...

उपनिषद

यजुर्वेदीयोपनिषद : शुक्ल यजुर्वेद और कृष्ण यजुर्वेद का जन्मदाता

यजुर्वेदीयोपनिषद – यजुर्वेद के उपनिषद – यजुर्वेदीय उपनिषद के दो भाग है शुक्ल यजुर्वेद और कृष्ण यजुर्वेद शुक्ल यजुर्वेद के उपनिषद इशावास्योपनिषद ……………………………...

उपनिषद

ऐतरेयोपनिषद : मानव-शरीर की उत्पत्ति रहस्य बतलाने वाला उपनिषद

प्रथम अध्याय इस उपनिषद के प्रथम अध्याय में तीन खण्ड हैं पहले खण्ड में सृष्टि का जन्म, दूसरे खण्ड में मानव-शरीर की उत्पत्ति और तीसरे खण्ड में उपास्य देवों की...

नयी पोस्ट आपके लिए

सर्वाधिक पढ़ी जाने वाली पोस्ट