मीराबाई भजन

श्याम मिलण के काज सखी

meera

श्याम मिलण के काज सखी (Shyam milan ke Kaaj Sakhi bhajan in hindi Mp3)

श्याम मिलण के काज सखी मेरे आरति उर में जागी री।

तड़पत-तड़पत कल न परत है बिरहबाण उर लागी री।

निसदिन पंथ निहारूं पिवको पलक न पल भर लागी री।

पीव-पीव मैं रटूं रात-दिन दूजी सुध-बुध भागी री।

बिरह भुजंग मेरो डस्यो कलेजो लहर हलाहल जागी री।

री आरति मेटि गोसाईं आय मिलौ मोहि सागी री।

मीरा ब्याकुल अति उकलाणी पिया की उमंग अति लागी री।

Search Kare

सर्वाधिक पढ़ी जाने वाली पोस्ट

bhaktisanskar-english

Subscribe Our Youtube Channel