मंत्र-श्लोक-स्त्रोतं

श्री ब्रह्मा मंत्र तथा श्लोक

brahma

मंत्र

ॐ यीम ह्रीं श्रीमकलीम सौह सात चित एकं ब्रह्मा

 श्लोक

प्रातः स्मरामि हृदि संस्फुरदात्मतत्त्वं

सच्चित्सुखं परमहंसगतिं तुरीयम् ।

यत्स्वप्नजागरसुषुप्तिमवैति नित्यं

तद्ब्रह्म निष्कलमहं न च भूतसङ्घः ॥१॥

नयी पोस्ट आपके लिए