मीराबाई भजन

सरण राखौ

Meera-bai-krishana

अब मैं सरण तिहारी जी मोहि राखौ कृपा निधान।

अजामील अपराधी तारे तारे नीच सदान।

जल डूबत गजराज उबारे गणिका चढ़ी बिमान।

और अधम तारे बहुतेरे भाखत संत सुजान।

कुबजा नीच भीलणी तारी जाणे सकल जहान।

कहं लग कहूं गिणत नहिं आवै थकि रहे बेद पुरान।

मीरा दासी शरण तिहारी सुनिये दोनों कान।

Search Kare

सर्वाधिक पढ़ी जाने वाली पोस्ट

bhaktisanskar-english

Subscribe Our Youtube Channel