राजस्थानी भजन

सेवा गोवेर्धन री

govardhan

सेवा गोवेर्धन री करले थारी सब चिंता मिट जाय ||टेर ||

थे सात परीक्रमा करलो , थे मानसी गंगा नाय ले

थार पाप सकल बह जाय सेवा गोवेर्धन री करले ||1||

मस्तक पर मुकट विराजे , कानो मै कुंडल छाजे

हिचकी पर हीरा लाल , सेवा गोवेर्धन री करले ||2||

गिरराज लागे प्यारो , ओ डोरा कंठी वालो

थारे गले हीरो रो हार , सेवा गोवेर्धन री करले ||3||

इन्दर कोप कियो ब्रिज भारी , ओ नख पर गिरवर धरी

ओ राखिया गोपी ने ग्वाल , सेवा गोवेर्धन री करले ||4||

थे करो प्रेम सु सेवा , अरोगावे मिश्री मेवा

थारो जनम सफल होय जाय , सेवा गोवेर्धन री करले ||4||

गिरराज लीला गावे वो फेर जनम नहीं पावे

वा को ब्रिज मै वासो थाय सेवा गोवेर्धन री करले

थारी सब चिंता मीट जाय सेवा गोवेर्धन री करले

Search Kare

सर्वाधिक पढ़ी जाने वाली पोस्ट

bhaktisanskar-english

Subscribe Our Youtube Channel