राजस्थानी भजन

संध्या सुमरिन करो रे

sumiran
Written by Aaditi Dave

[quads id = “2”]

संध्या सुमरिन करो रे मन मेरा संध्या सुमरिन करो रे

काहे की बाती न कहे को दिवला

काहे को धिरत बन्यो रे ||1||

मन के री बाती न तन के रो

दिवलो ज्ञान रो धिरत बन्योरे ||2||

मत पिता और सात गुरुदेवा

तीनो री सेवा करो रे ||3||

[quads id = “3”]

सांझ सुबह और पर दोपहरा

तीनो ही काल तू जप रे ||4||

गंगा नहाया ने जमुना जी नहाया

त्रिवेणी मै तू तीर रे ||5||

चोरी ने जारी और पर निंदा

तीनो ही बातो से टलरे ||6||

बायर भट्कियो सु कायर हो सी धर बैठो गोविन्द भजो रे

चन्द्र सखी भज बाल कृष्ण छवि

हरी चरणों मै चीत रख रे

मन मेरा संध्या सुमिरन करो रे

[quads id = “4”]

About the author

Aaditi Dave

Hello Every One, Jai Shree Krishna, as I Belong To Brahman Family I Got All The Properties of Hindu Spirituality From My Elders and Relatives & Decided To Spreading All The Stuff About Hindu Dharma's Devotional Facts at Only One Roof.

Leave a Comment