Category - बौद्ध धर्म

बौद्ध धर्म

श्रावस्ती

श्रावस्ती एक धार्मिक स्थली है जो उत्तर प्रदेश में स्थित हैं। इस नगरी का वर्णन महाभारत में भी मिलता है। राजा श्रावस्त के नाम पर बसी श्रावस्ती बौद्ध एवं जैन दोनों का तीर्थ है। यहाँ भगवान बुद्ध ने कई चमत्कार दिखाए थे। यहां स्थित बौद्ध मंदिर और मठ सुप्रसिद्ध हैं। श्रावस्ती का इतिहास : प्राचीन मान्यताओं के अनुसार इस स्थान को भगवान राम के पुत्र लव ने बसाया था। भगवान बुद्ध ने भी इस स्थान पर एक लंबा समय बिताया था। इस स्थान पर भगवान बुद्ध ने सबसे ज्यादा......

बौद्ध धर्म

सारनाथ

उत्तरप्रदेश में वाराणसी के पास सारनाथ एक छोटा सा गांव है। सारनाथ बौद्ध धर्म के तीर्थ स्थान के रूप में प्रसिद्ध है। भारत के राष्ट्रीय चिह्न चतुर्मुख सिंह स्तंभ की विशाल मूर्ति, भगवान बुद्ध का मंदिर, चौखंडी स्तूप आदि कई दर्शनीय और धार्मिक स्थलों के साथ सारनाथ अपने पुरातत्व महत्व के लिए भी प्रसिद्ध है। सारनाथ का इतिहास सारनाथ स्थित डियर पार्क में ही गौतम बुद्ध ने ज्ञान प्राप्ति के बाद पहला संदेश दिया था। पहले बौद्ध संघ की स्थापना भी यहीं की गई थी।......

बौद्ध धर्म

साँची का स्तूप

सांची मध्यप्रदेश के रायसेन जिले में स्थित एक छोटा सा गाँव है। यह स्थान अपने स्मारकों और बौद्ध स्तूपों के लिए प्रसिद्ध है। साँची एक टीले की तराई में स्थित है और बौद्ध स्मारकों के लिए प्रसिद्ध है। सांची के स्तूप बेहद प्राचीन माने जाते हैं। बौद्ध धर्मावलंबियों के लिए यह पावन तीर्थ माना जाता है। सांची का इतिहास महान सम्राट अशोक के शासन काल में बने साँची के स्तूप का बौद्ध धर्म से गहरा संबंध हैं। कई लोग मानते हैं कि खुद यहां कभी भी महात्मा बुद्ध नहीं......

बौद्ध धर्म

नालंदा

भारत के इतिहास में एक शैक्षिक राज्य के रूप में वर्णित हैं। दुनिया के इस सबसे प्राचीन विश्वविद्यालय के रूप में प्रसिद्ध नालंदा विश्वविद्यालय अपनी शैक्षिक योग्यताओं के कारण बेहद प्रसिद्ध था। नालंदा विश्वविद्यालय के साथ बौद्ध धर्म के कई तार भी जुड़े हैं। माना जाता है कि यहां भगवान बुद्ध बार-बार आएं थे। यही वजह है कि पांचवीं से बारहवीं शताब्दी के बीच नालंदा को बौद्ध शिक्षा के केंद्र के रूप में भी जाना जाता था। नालंदा का इतिहास (History of Nalanda)......

बौद्ध धर्म

बोध गया

बोध गया बिहार में स्थित एक बौद्ध धार्मिक स्थल है। बिहार बौधगया के आध्यात्मिक महत्त्व के कारण विश्व विख्यात है। इस स्थान को बौद्ध धर्म का तीर्थ स्थान कहा जाता है। यूनेस्को द्वारा इस शहर को विश्व विरासत स्थल घोषित किया गया है। यहां स्थित महाबोधि मंदिर को बेहद विशेष माना जाता है। बोध गया का इतिहास मान्यतानुसार गौतम बुद्ध ने फाल्गू नदी के किनारे बोधिवृक्ष के नीचे ज्ञान प्राप्त किया था। तीन दिन तक लगातार तपस्या के बाद बैसाख पूर्णिमा के दिन उन्हें......

बौद्ध धर्म

संकश्या

सांकाश्य अथवा 'संकश्या' एक बौद्ध धार्मिक स्थली है। यह 'बसंतपुर' (ज़िला एटा, उत्तर प्रदेश) में स्थित है। गौतम बुद्ध के जीवन से ही यह नगर प्रसिद्ध था। यहां अनेक स्तूप और विहार हैं। कहा जाता है कि इसी जगह भगवान बुद्ध ने स्त्रियों के लिए बौद्ध संघ के द्वार खोले थे। ऐतिहासिक, सांस्कृतिक और सामाजिक दृष्टिकोण से इस जगह का विशेष महत्व है। सांकाश्य का इतिहास प्राचीन दंतकथाओं के अनुसार सांकाश्य में ही भगवान बुद्ध ने अवतार लिया था। पाली दंतकथाओं के अनुसार......

बौद्ध धर्म

राजगीर

राजगीर बिहार राज्य के नालंदा जिले में स्थित हैं। इस जगह पर भगवान बुद्ध के भस्मावशेष का एक भाग रखा गया है। राजगीर अपने प्राकृतिक सौंदर्य के साथ भगवान बुद्ध से जुड़े होने के कारण एक अहम तीर्थ स्थान माना जाता है। राजगीर का इतिहास (History of Rajgir) कहा जाता है कि भगवान बुद्ध का भस्मावशेष 8 भागों में विभाजित किया गया था। वैशाली में हुई खुदाई के दौरान एक भाग लिच्छवी गणराज्य ने हासिल किया, जो आज भी पटना संग्रहालय में स्थित है। यहां स्थित शांति स्तूप......

बौद्ध धर्म

लुम्बनी (नेपाल)

लुम्बिनी नेपाल की तराई में पूर्वोत्तर रेलवे की गोरखपुर-नौतनवाँ लाइन के नौतनवाँ स्टेशन से 20 मील और गोरखपुर-गोंडा लाइन के नौगढ़ स्टेशन से 10 मील दूर है। नौगढ़ से यहाँ तक पहुंचने का पक्का मार्ग भी है। बौद्ध धर्म के लिए यह एक बेहद विशिष्ट जगह है क्योंकि यहां गौतम बुद्ध का जन्म हुआ था। लुम्बिनी का इतिहास (History of Lumbini) गौतम बुद्ध का जन्म 563 ई.पू. में कपिलवस्तु के समीप लुम्बिनी ग्राम में हुआ था। मान्यता है कि यहां सम्राट अशोक भी आएं थे। यहां......

बौद्ध धर्म

कुशीनगर जिला

कुशीनगर एक बौद्ध धार्मिक स्थल है। गौतम बुद्ध ने कुशीनगर में ही निर्वाण प्राप्त किया था। हिन्दू धर्म में भी इस स्थान का विशेष महत्त्व है। कुशीनगर उत्तर प्रदेश में स्थित हैं। कुशीनगर में कई प्राचीन स्तूप और मठ स्थित है। इनमें से कई स्थानों का निर्माण मौर्य सम्राट अशोक ने कराया था। प्राचीन कुशीनगर खंडहर में तब्दील हो गया था, लेकिन 19वी सदी में इस शहर का पुर्नविष्कार किया गया। कुशीनगर का इतिहास (History of Kushinagar) कुशीनगर में ही भगवान बुद्ध ने......

बौद्ध धर्म

दर्शन

बौद्ध धर्म के मुख्य दर्शन : बौद्ध धर्म दर्शन पूरी तरह जीवन जीने के सिद्धांतो को ही साबित करते हैं। बौद्ध धर्म दर्शन जिन प्रमुख बिंदुओं पर आधारित है वह निम्न हैं: बौद्ध धर्म दर्शन :  अनीश्वरवाद: बौद्ध धर्म ईश्वर की सत्ता को नहीं मानता है। इसके अनुसार संसार कर्मों का चक्र है। यह कार्य चक्र ना ही कहीं से शुरू हुए हैं और न ही कभी खत्म होंगे। यह कार्य किसी और ने नहीं अपितु मनुष्य ने ही शुरू किए हैं। शून्यतावाद: शून्यता महायान बौद्ध संप्रदाय का मुख्य......

error: Content is protected !!