आरती संग्रह

आरती श्री रामावतार जी की

 श्री रामावतार जी आरती (Shri Ramavtar ji Aarti in hindi Mp3)

भए प्रगट कृपाला दीन दयाला कौसल्या हितकारी ।

हरषित महतारी मुनि मन हारी अद्भुतरुप बिचारी ।।

लोचन अभिरामा तनु घनश्यामा निज आयुध भुज चारी ।

भूषन बनमाला नयन बिसाला सोभा सिंधु खरारी ।। 1 ।।

कह दुइ कर जोरी अस्तुति तोरी केहि विधि करौं अनंता ।

माया गुन ग्याना तीत अमाना बेद पुरान भनंता ।।

करुना सुख सागर, सब गुन आगर, जेहि गावहिं श्रुति संता ।

सो मम हित लागी जन अनुरागी भयउ प्रगट श्री कंता ।। 2 ।।

ब्रह्माण्ड़ निकाया निर्मित माया रोम रोम प्रति वेद कहै ।

मम उर सो बासी, यह उपहासी , सुनत धीर मति थिर नरएँ है ।।

उपजा जब ग्याना, प्रभु मुसुकाना, चरित बहुत विधि कीन्ह चहै ।

कहि कथा सुहाई मातु बुझाई जेहि प्रकार सुत प्रमे लहैं ।। 3 ।।

माता पुनि बोली सो मति डोली तजहु तात यह रुपा ।

कीजै सिसुलीला अति प्रियसीला यह सुख परम अनूपा ।।

सुनि वचन सुजाना, रोदन ठाना होई बालक सुरभूपा ।

यह चरित जे गावहिं हरिपद पावहिं ते न परहिं भवकूपा ।। 4 ।।

दोहा

विप्र , धैनु, सुर ,सन्त हित , लीन्ह मनुज अवतार |

निज इच्छा निर्मित तनु , माया गुन गोपार ||

Tags

Author’s Choices

हर कष्टों के निवारण के लिए जपे ये हनुमान जी के मंत्र, श्लोक तथा स्त्रोत

सूर्य नमस्कार : शरीर को सही आकार देने और मन को शांत व स्वस्थ रखने का उत्तम तरीका

कपालभाति प्राणायाम : जानिए करने की विधि, लाभ और सावधानियाँ

डायबिटीज क्या है, क्यों होती है, कैसे बचाव कर सकते है और डाइबटीज (मधुमेह) का प्रमाणित घरेलु उपचार

कोलेस्ट्रोल : कैसे करे नियंत्रण, घरेलु उपचार, बढ़ने के कारण और लक्षण

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग : उत्तराखंड के चार धाम यात्रा में सबसे प्रमुख और सर्वोच्च ज्योतिर्लिंग

गृह प्रवेश और भूमि पूजन, शुभ मुहूर्त और विधिपूर्वक करने पर रहेंगे दोष मुक्त और लाभदायक

लघु रुद्राभिषेक पूजा : व्यक्ति के कई जन्मो के पाप कर्मो का नाश करने वाली शिव पूजा

तो ये है शिव के अद्भुत रूप का छुपा गूढ़ रहस्य, जानकर हक्के बक्के रह जायेंगे

शिव मंत्र पुष्पांजली तथा सम्पूर्ण पूजन विधि और मंत्र श्लोक

श्रीगणेश प्रश्नावली यंत्र के 64 अंकों से जानिए अपनी परेशानियों का हल