बौद्ध धर्म

राजगीर

rajgir

राजगीर बिहार राज्य के नालंदा जिले में स्थित हैं। इस जगह पर भगवान बुद्ध के भस्मावशेष का एक भाग रखा गया है। राजगीर अपने प्राकृतिक सौंदर्य के साथ भगवान बुद्ध से जुड़े होने के कारण एक अहम तीर्थ स्थान माना जाता है।

राजगीर का इतिहास (History of Rajgir)

कहा जाता है कि भगवान बुद्ध का भस्मावशेष 8 भागों में विभाजित किया गया था। वैशाली में हुई खुदाई के दौरान एक भाग लिच्छवी गणराज्य ने हासिल किया, जो आज भी पटना संग्रहालय में स्थित है। यहां स्थित शांति स्तूप पर भगवान बुद्ध ने कई महत्वपूर्ण उपदेश दिए थे। भगवान बुद्ध के मोक्ष उपरांत बौद्ध धर्मावलंबियों ने प्रथम धार्मिक सम्मेलन वैभारगिरि पर्वत की गुफा में आयोजित किया था, जहां पालि साहित्य की शैली में 'त्रिपिटक ग्रंथ' की रचना की गई थी।

दार्शनिक स्थल (Philosophical Point)

प्राचीन बौद्ध पर्यटक स्थल, गृद्धकूट पर्वत, वेणुवन, गर्म जल के झरने, स्वर्ण भंडार और जैन मंदिर यहाँ के दार्शनिक स्थल हैं। राजा बिम्बसार और अजातशत्रु के साथ सान्निध्य के कारण इस स्थान का महत्व और भी बढ़ जाता है।

About the author

Niteen Mutha

नमस्कार मित्रो, भक्तिसंस्कार के जरिये मै आप सभी के साथ हमारे हिन्दू धर्म, ज्योतिष, आध्यात्म और उससे जुड़े कुछ रोचक और अनुकरणीय तथ्यों को आप से साझा करना चाहूंगा जो आज के परिवेश मे नितांत आवश्यक है, एक युवा होने के नाते देश की संस्कृति रूपी धरोहर को इस साइट के माध्यम से सजोए रखने और प्रचारित करने का प्रयास मात्र है भक्तिसंस्कार.कॉम

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?

error: Content is protected !!