ओशो भजन

ओशो हंसती हुई जिंदगी दे गए

osho-bhajan-1

ओशो हंसती हुई जिंदगी (Osho Hasti Hue Zindgi de gye bhajan in hindi Mp3)

ओशो हंसती हुई ज़िंदगी दे गये,

नाद की, नूर की, बंदगी दे गए।

कब से रोशनी को, तरसती थी ये ज़मी,

हम अंधेरे में थे, चांदनी दे गये।

आदमी कोन या आसमां मिल गया,

चांद सूरज सितारे, ये सभी देग ये।

वो ख़ुदी को मिटा बेख़ुदी दे गये,

छीन कर रंज़ो-गम हर ख़ुशी दे गये।

किस को मालूम था, हम को चाहिये क्या,

जो मुनासिब था हमें, वही सब दे गये।

ओशो हंसती चहकती नाचती और गाती,

इक उमंगों भरी, ज़िंदगी दे गये।

About the author

Pandit Niteen Mutha

नमस्कार मित्रो, भक्तिसंस्कार के जरिये मै आप सभी के साथ हमारे हिन्दू धर्म, ज्योतिष, आध्यात्म और उससे जुड़े कुछ रोचक और अनुकरणीय तथ्यों को आप से साझा करना चाहूंगा जो आज के परिवेश मे नितांत आवश्यक है, एक युवा होने के नाते देश की संस्कृति रूपी धरोहर को इस साइट के माध्यम से सजोए रखने और प्रचारित करने का प्रयास मात्र है भक्तिसंस्कार.कॉम

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?