शिव स्तुति

नटराज स्तुति

Natraj Stuti

नटराज शिव के जगत गुरू स्वरूप का भी परिचायक है| नृत्य कलाओं में श्रेठ गिना जाता है और नटराज शिव कलाओं एवं ज्ञान प्रदान करने वाले परं गुरु हैं. 

नटराज स्तुति उन्ही जगत गुरु, परं ब्रह्म शिव को समर्पति है |

सत सृष्टि तांडव रचयिता

नटराज राज नमो नमः|

हे नटराज आप ही अपने तांडव द्वारा सृष्टि की रचना करने वाले हैं| हे नटराज राज आपको नमन है|

हे आद्य गुरु शंकर पिता

नटराज राज नमो नमः|

हे शंकर आप ही परं पिता एवं आदि गुरु हैं. हे नटराज राज आपको नमन है| 

गंभीर नाद मृदंगना धबके उरे ब्रह्मांडना

नित होत नाद प्रचंडना

नटराज राज नमो नमः|

हे शिव, ये संपूर्ण विश्व आपके मृदंग के ध्वनि द्वारा ही संचालित होता है| इस संसार में व्याप्त प्रत्येक ध्वनि के श्रोत आप हे हैं| हे नटराज राज आपको नमन है |

सिर ज्ञान गंगा चंद्र चिद ब्रह्म ज्योति ललाट मां

विष नाग माला कंठ मां

नटराज राज नमो नमः|

हे नटराज आप ज्ञान रूपी चंद्र एवं गंगा को धारण करने वाले हैं, आपका ललाट से दिव्या ज्योति का स्रोत है| हे नटराज राज आप विषधारी नाग को गले में धारण करते हैं| आपको नमन है| 

तवशक्ति वामे स्थिता हे चन्द्रिका अपराजिता |

चहु वेद गाएं संहिता

नटराज राज नमो नमः|

हे शिव (माता) शक्ति आपके अर्धांगिनी हैं, हे चंद्रमौलेश्वर आप अजय हैं. चार वेद आपकी ही सहिंता का गान करते हैं. हे नटराज राज आपको नमन है |

हे नटराज राज आपको नमन है |

 

About the author

Aaditi Dave

Hello Every One, Jai Shree Krishna, as I Belong To Brahman Family I Got All The Properties of Hindu Spirituality From My Elders and Relatives & Decided To Spreading All The Stuff About Hindu Dharma’s Devotional Facts at Only One Roof.

1 Comment

Click here to post a comment

  • Sanatan dharm ke prachar or prasar ke liye sath hi hamari nayi pidi ko batane or samjhane ke liye achha prayash he. Pls also write regarding kundalini yoga in complete to beginner.

नयी पोस्ट आपके लिए