भक्ति

गोमुखी कामधेनु शंख : मन की कल्पनाओ को पूर्ण करने वाला चमत्कारिक शंख

शंख निधि का प्रतीक है। ऐसा माना जाता है कि इस मंगलचिह्न को घर के पूजास्थल में रखने से अरिष्टों एवं अनिष्टों का नाश होता है और सौभाग्य की वृद्धि होती है। भारतीय धर्मशास्त्रों में शंख का विशिष्ट एवं महत्वपूर्ण स्थान है। मंदिरों एवं मांगलिक कार्यों में शंख-ध्वनि करने का प्रचलन है। मान्यता है कि इसका प्रादुर्भाव समुद्र-मंथन से हुआ था।

समुद्र-मंथन से प्राप्त 14 रत्नों में शंख भी एक है। विष्णु पुराण के अनुसार माता लक्ष्मी समुद्रराज की पुत्री हैं तथा शंख उनका सहोदर भाई है। अतः यह भी मान्यता है कि जहॉं शंख है, वहीं लक्ष्मी का वास होता है। स्वर्गलोक में अष्टसिद्धियों एवं नवनिधियों में शंख का महत्वपूर्ण स्थान है। भगवान विष्णु इसे अपने हाथों में धारण करते हैं।

धार्मिक कृत्यों में शंख का उपयोग किया जाता है। पूजा-आराधना, अनुष्ठान-साधना, आरती, महायज्ञ एवं तांत्रिक क्रियाओं के साथ शंख का वैज्ञानिक एवं आयुर्वेदिक महत्व भी है। प्राचीन काल से ही प्रत्येक घर में शंख की स्थापना की जाती है। शंख को देवता का प्रतीक मानकर पूजा जाता है एवं इसके माध्यम से अभीष्ट की प्राप्ति की जाती है। शंख की विशिष्ट पूजन पद्धति एवं साधना का विधान भी है। कुछ गुह्य साधनाओं में इसकी अनिवार्यता होती है। शंख कई प्रकार के होते हैं और सभी प्रकारों की विशेषता एवं पूजन-पद्धति भिन्न-भिन्न है। शंख साधक को उसकी इच्छित मनोकामना पूर्ण करने में सहायक होते हैं तथा जीवन को सुखमय बनाते हैं। उच्च श्रेणी के श्रेष्ठ शंख कैलाश मानसरोवर, मालद्वीप, लक्षद्वीप, कोरामंडल द्वीप समूह, श्रीलंका एवं भारत में पाये जाते हैं।

गोमुखी शंख की उत्पत्ति:

गोमुखी शंख की उत्पत्ति सतयुग में समुद्र मंथन के समय हुआ। जब 14 प्रकार के अनमोल रत्नों का प्रादुर्भाव हुआ तब लक्ष्मी के पश्चात् शंखकल्प का जन्म हुआ। उसी क्रम में गोमुखी कामधेनु शंख का जन्म माना गया है। पौराणिक ग्रंथों एवं शंखकल्प संहिता के अनुसार कामधेनु शंख संसार में मनोकामनापूर्ति के लिए ही प्रकट हुआ है। यह शंख कामधेनु गाय के मुख जैसी रूपाकृति का होने से इसे गोमुखी शंख के नाम से जाना जाता है। पौराणिक शास्त्रों में इसका नाम कामधेनु गोमुखी शंख है। इस शंख को कल्पना पूरी करने वाला कहा गया है।

कलियुग में मानव की मनोकामनापूर्ति का एक मात्र साधन है। यह शंख वैसे बहुत दुर्लभ है। इसका आकार कामधेनु के मुख जैसा है। लाल-पीला रंग का प्राकृतिक जबड़ा मुंह के रूप की शोभा बढ़़ा रहा है। ऊपर दो-तीन सिंग बने हुए हैं।

कामधेनु गोमुखी शंख के प्रयोग:

किसी भी शुभ मुहूर्त में लाल वस्त्र धारण कर लाल रंग के ऊनी आसन पर बैठकर सामने गोमुखी शंख को इस प्रकार से रखें कि आपके सामने शंख का मुंह रहे। रुद्राक्ष की माला से 11 दिन में 51 हजार जप करें। मंत्र जप के समय शंख के मुंह पर फूंक मारें। यह साधना 11 दिन में सिद्ध हो जाती है। यह शंख आपकी हर मनोकामना पूर्ण करता है साथ ही वाणी सिद्धि भी हो जाती है।

मंत्र इस प्रकार हैः ऊँ नमः गोमुखी कामधेनु शंखाय मम् सर्व कार्य सिद्धि कुरु-कुरु नमः।

लक्ष्मी प्राप्ति में कामधेनु शंख के विभिन्न प्रयोग: दुर्लभ कामधेनु शंख ऋषि-महर्षि साक्षी हैं – ऋषि वशिष्ठ ने कहा कि मैं आज से लक्ष्मी को सिद्ध और प्रत्यक्ष करने के लिए साधना में कामधेनु शंख के सामने बैठ रहा हूं और संसार में इससे बड़ी साधना, इससे तेजस्वी मंत्र कोई नहीं है

About the author

Abhishek Purohit

Hello Everybody, I am The Network Professional & Running My Training Institute Along With Network Solution Based Company and Here Only for My True Faith & Devotion on Lord Shiva. I want To Share Rare & Most Valuable Content of Hinduism and its Spiritualism. so that young generation can get know about our religion's power

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?

2 Comments

error: Content is protected !!