Category - मैडिटेशन

छठी इंद्री को अंग्रेजी में सिक्स्थ सेंस कहते हैं। इसे परामनोविज्ञान का विषय भी माना जाता है। असल में यह संवेदी बोध का मामला है। छठी इंद्री के बारे में आपने बहुत सुना और पढ़ा होगा लेकिन यह क्या होती है, कहां होती है और कैसे इसे जाग्रत किया जा सकता है...

Read More
मैडिटेशन

जानिए त्राटक द्वारा आज्ञाचक्र ध्‍यान साधना विधि और सावधानिया

आज्ञाचक्र ध्‍यान साधना (Aagya Chakra Dhyan Sadhna) जिसे हम ध्‍यान कहते है वो आज्ञा चक्र ध्‍यान ही है मगर इसको सीधे ही करना लगभग असम्‍भव है उसके लिये साधक को...

मैडिटेशन

योग निद्रा करने की विधि और आध्यात्मिक लाभ

योग निद्रा और योगासन योगासन अभ्यास शरीर में ऊर्जा का स्तर बढ़ाते हैं। योग निद्रा इस ऊर्जा को संरक्षित एवं समेकित करती हैं जिससे शरीर व मन को विश्राम मिलता है।...

मैडिटेशन

जानिए सोने के लिए (निंद्रा) कोनसा तरीका आध्यात्मिक दृष्टि से सर्वोत्तम है

पश्चिम दिशा में पैर करके सोने का तरीका (Sound sleep by Spiritual Exercise) : शांत निद्रा कैसे लें, इस लेख में हम अध्ययन करेंगे कि पश्चिम दिशा में पैर करके सोना...

मैडिटेशन

सद्गुरु जग्गी वासुदेव के अनुसार मानसिक तनाव, डिप्रेशन, बेचैनी जैसी बीमारियां के है ये प्रमुख कारण

Depression in Hindi : पिछली पीढ़ी की तुलना में इस पीढ़ी में डिप्रेशन के मामलों में अचानक उछाल आया है। मानसिक तनाव, डिप्रेशन, बेचैनी जैसी कई बीमारियां आज काफी बढ़...

मैडिटेशन

सद्गुरु जग्गी वासुदेव द्वारा सिद्ध ईशा योग क्रिया ध्यान लगाने की सरल विधी

आध्यात्मिक विकास की संभावनाएं जो पहले केवल योगियों और संयासियों के लिए ही थी अब ईशा क्रिया के द्वारा सभी लोगों को उनके घर की सुख सुविधा में बैठे प्राप्त हो...

मैडिटेशन

प्राणायाम के प्रकार और उनको करने की शास्त्रोक्त विधी

प्राणायाम आरम्भ करने की विधि :  Pranayama in Hindi :  जब भी आप प्राणायाम करे आप की रीढ़ की हड्डी सीधी होनी चाहिए इसके लिए आप किसी भी ध्यानात्मक आसन में बैठ जाये...

मैडिटेशन

कर्मयोग – भगवत गीता, श्री राम शर्मा आचार्य और सद गुरु के अनुसार

कर्मयोग से तात्पर्य :- “अनासक्त भाव से कर्म करना”। कर्म के सही स्वरूप का ज्ञान। कर्मयोग दो शब्दों से मिलकर बना है – ‘कर्म’ तथा ‘योग’ । कर्मयोग के सन्दर्भ...

मैडिटेशन

कुण्डलिनी शक्ति का भेद और जाग्रत करने के बीज मन्त्र

कुण्डलिनी योग (Kundalin Jagran) अंतर्गत शक्तिपात विधान का वर्णन अनेक ग्रंथों में मिलता है । योग वशिष्ठ, तेजबिन्दूनिषद्, योग चूड़ामणि, ज्ञान संकलिनी...

मैडिटेशन

पतञ्जलि अष्टांग योग – आत्मा को परमात्मा से जोड़ने की प्रक्रिया

गणित की संख्याओं को जोड़ने के लिए भी ‘ yog ‘ शब्द का प्रयोग किया जाता है परन्तु  spiritual  पृष्ठ भूमि में जब ‘योग’ शब्द का प्रयोग किया...

नयी पोस्ट आपके लिए