रत्न और राशि

कैसे करे भोजन द्वारा ग्रहो को अपने पक्ष में

हम अपने आहार द्वारा भी ग्रहों को बल दे सकते हैं

जैसे :-

  • सूर्य अगर मजबूत हो तो हमें मान सम्मान, सुख समृध्धि मिलती  है|
  •  १ पिता का संग और सहयोगमिलता है|१ अगरसूर्य कमजोर हो तो मुंह में थूक ज्यादा बनेगा, पिता से नहीं बनेगी, सरकारसेपरेशानी रहेगी|

  •  सूर्य को बल देने के लिए चौकर वालेआटे कि रोटी खाएं , फल अधिक खाएं निहार मुंहगुड़ खाकर ऊपर से पानी पियें|
  •  १ ग्वारठाका  सेवन करें|

चन्द्र:

माँ से दूरी बन जाये, जातक वहमी हो जाये, हाथपैर शिथिल पड़ जाएँ| चेहरे पर दागधब्बे पड़  जाएँ, मन में उमंग ख़ुशी न रहे तो समझेंचंदरमा खराब है| चंद्रमा को ठीक करने के लिए दूध में हरी इलायची डालकर पियें१ खीर खाएं,केवडा डालकरचांदी के गिलास में पानी, दूध पियें लीची|

मंगल:
यह भी जरूर पढ़े :

जल्दी थकना, भाईबहन से झगड़ा, चोट ज्यादा लगे तो समझ लें मंगल ख़राब हैं १ पपीता, चुकंदर खाने सेमंगल मजबूत होता है – मीठी लस्सीपियें गुड़ डालकर  मंगल मजबूत होगा १ लौकी, तौरी की  सब्जी खाएं –

बुध:

बुध कमजोर होगा तो दांत ख़राब होंगे, जातक अपने विचारों को अभिव्यक्त नहीं कर पायेगा, स्किन (त्वचा) रोगहो जाते हैं , बुद्धि ख़राब हो जाती है १ इसके लिए हरी  मिर्च,आंवला, हरी सब्जियों का सेवन करें| तांबे के बर्तन में रखा हुआ जल पियें १

गुरु:
  • गुरु ख़राब हो तो जातक मोटा होता चला जाता है,रश्ते बिगड़ जाते है|
  •  १ लीवर ख़राब हो जाता है इसके लिए अनार खाएं|
  • गन्ना, गुड खाएं १ सूर्यसम्मान देता है लेकिन गुरु उस सम्मान को बनायेरखता है|
  •  इसलिए गुरु को मजबूत रखें १ हल्दी, केलाके सेवन से भी गुरु मजबूत होता है|
शुक्र:
  •  शुक्र ख़राब हो तो तन,मन,धन   सब पर ग्रहणलग जाता है|
  •  १ धन, वैभव,ऐश्वर्य सभी कुछ शुक्रअच्छा हो तो ही मिलता है|
  • १ अतः शुक्र को बली रखने के लिए साबूदाने की खीर खाएं, पनीर खाएं|
  •  छेना तथा छेने कि मिठाइयां, दूध पछाड़कर उस पानी को पीने से भीशुक्र मजबूत होता है|
शनि:
  • व्यवहारिक जीवन में कुछ पाना है तो शनि मजबूत होना चाहिए
  •  १ उड़द,राजमा, लॉन्ग डालकर चावल खाएं १ राइ का पानी पीयें शनि मजबूत होगा|
राहु/केतु : 

राहु शनि के सामान है और केतु मंगल के समान अतः शनि मंगल किचीजें खानी चाहिए|

यह भी जरूर पढ़े :

 

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?

1 Comment

Copy Protected by Nxpnetsolutio.com's