ओशो भजन

जन्मदिन आज ओशो का

osho-bhajan-1

जन्मदिन आज ओशो (Janam din aaj Osho ka Bhajan in hindi Mp3)

परिभाषा, धर्म जनम दिन आज ओशो का मुबारक हो, मुबारक हो।

धरा पर आना सतगुरफ का मुबारक हो, मुबारक हो।

बड़े भाग्य से शुभदिन आया, सबने मिलकर जश्न मनाया।

युगों-युगों से भटक रहे थे, सतगुरफ ने हमको अपनाया।

सभी हम ओशो धारा के भगीरथ हों, भगीरथ हों।

ओशो तो है मानसरोवर, सब नदियों का जलभर आया।

योगा, भक्ति, ताओ, सूफी, तंत्र, झेन, वेदान्त समाया।

बही जो ओशो की धारा ये शाश्वत हो, येशाश्वत हो।

नातो छोड़ना जगहै यारों, नातो जंगल को है जाना।

ध्यान समाधि की धूनी से, घर-घर में है अलख जगाना।

About the author

Pandit Niteen Mutha

नमस्कार मित्रो, भक्तिसंस्कार के जरिये मै आप सभी के साथ हमारे हिन्दू धर्म, ज्योतिष, आध्यात्म और उससे जुड़े कुछ रोचक और अनुकरणीय तथ्यों को आप से साझा करना चाहूंगा जो आज के परिवेश मे नितांत आवश्यक है, एक युवा होने के नाते देश की संस्कृति रूपी धरोहर को इस साइट के माध्यम से सजोए रखने और प्रचारित करने का प्रयास मात्र है भक्तिसंस्कार.कॉम

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?