प्रसिद्ध हिंदी भजन

जाना था गंगा पार

ram-sita

जाना था गंगा पार (Jana tha Ganga Paar bhajan in hindi Mp3)

कभी कभी भगवान को भी, भक्तों से काम पडे |

जाना था गंगा पार, प्रभु केवट की नाव चढें…..

अवध छोड प्रभु वन को धायें, सियाराम लखन गंगा तट आये,

केवट मन ही मन हरषायें, घर बैंठे प्रभु दर्शन पाये |

हाथ जोड कर प्रभु के आगे, केवट मगन खडें ||जाना था गंगा पार..

प्रभु बोले तुम नाव चलाओ, पार हमें केवट पहुँचाओं,

केवट कहता सुनो हमारी, चरण धूली की माया भारी |

मैं गरीब हूँ नैया मेरी, ना नारी होय पडे..|| जाना था गंगा पार..

केवट दौड के जल भर लाये, चरण धोये चरणामृत पाया,

वेद ग्रंथ जिनके यश गाये, केवट उनको नाव चढायें |

बरसे फ़ूल गगन से ऐसे, भक्त के भाग बढ़े ||जाना था गंगा पार..

चली नाव गंगा की धारा, सियाराम लखन को पार उतारा,

प्रभु देने लगे नाव उतराई, केवट कहे नही रघुराई |

पार किया मैने तुमको, अब तू मोहें पार करे || जाना था गंगा पार..

कभी कभी भगवान को भी, भक्तों से काम पडे |

जाना था गंगा पार, प्रभू केवट की नाव चढें ||

 

About the author

Aaditi Dave

Hello Every One, Jai Shree Krishna, as I Belong To Brahman Family I Got All The Properties of Hindu Spirituality From My Elders and Relatives & Decided To Spreading All The Stuff About Hindu Dharma's Devotional Facts at Only One Roof.

Add Comment

Click here to post a comment

नयी पोस्ट आपके लिए