t>

जानिए पीपल वृक्ष की पूजा का धार्मिक और वैज्ञानिक कारण

Share this

पीपल वृक्ष की पवित्रता का धार्मिक और वैज्ञानिक कारण क्या है? पीपल का पूजन क्यों किया जाता है ?

धर्मशास्त्रों में पीपल वृक्ष को भगवान विष्णु का निवास माना गया है। स्कंध पुराण के अनुसार पीपल की जड़ में श्री विष्णु, तने में केशव, शाखाओं में नारायण, पत्तों में भगवान श्रीहरि और फल में सब देवताओं से युक्त भगवान अच्युत का निवास है।

स्वयं श्रीमद्भगवद् गीता के अनुसार अर्जुन को उपदेश देते भगवान श्रीकृष्ण कहते हैं कि हे अर्जुन! वृक्षों में मैं पीपल (अश्वत्थ) का वृक्ष हूँ ज्ञानी और भक्तजन इसी कारण पीपल के वृक्ष की सेवा करके सहस्रों पुण्यों का फल अर्जित करते हैं। यही इस वृक्ष की धार्मिक पवित्रता का मुख्य कारण है।

पद्मपुराण के अनुसार पीपल की परिक्रमा करके प्रणाम करने से आयु में वृद्धि होती है। पीपल के वृक्ष को जल से सिंचित करने वाले प्राणी को सहज ही स्वर्ग की प्राप्ति हो जाती है। शनि की साढ़ेसाती और ढैया काल में पीपल की परिक्रमा और पूजन करने से साढ़ेसाती और ढैया का प्रकोप कम हो जाता है।

धर्मशास्त्रों के अनुसार पीपल में पितरों का वास होने के साथ ही तीर्थों का भी वास है। यही कारण है कि मुंडन आदि धार्मिक संस्कार पीपल के वृक्ष के नीचे ही संपन्न कराने की रीति है।

वैज्ञानिक अनुसंधानों के अनुसार पीपल का वृक्ष दिन-रात पर्याप्त मात्रा में प्राणवायु अर्थात ऑक्सीजन का निष्पादन करता रहता जगत के प्राणियों में प्राणों का संचार होता है और ऐसा जगत के पालनहार । प्राणवायु से ही श्रीविष्णु ही करते हैं। स्पष्टतः वैज्ञानिक अनुसंधानों के आधार पर भी पीपल का वृक्ष श्रीविष्णु का ही स्वरूप है।

पीपल के वृक्ष की छाया शीत ऋतु में उष्णता और ग्रीष्म ऋतु में शीतलता प्रदान करती है। इसके पत्तों से स्पर्शित होकर प्रवाहित होने वाली वायु और पत्तों के परस्पर टकराने पर उत्पन्न होने वाली विशिष्ट ध्वनि अनेक बीमारियों में संक्रामक कीटाणुओं को नष्ट करने की क्षमता रखती है। आयुर्वेद के अनुसार पीपल वृक्ष की जड़, छाल और इसके पत्तों एवं फलों से प्राणियों के अनेक रोगों की सफल औषधियां बनती हैं। इस प्रकार पीपल के वृक्ष की पवित्रता और महत्त्व धार्मिक ही नहीं बल्कि वैज्ञानिक भी है।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार पीपल के वृक्ष का निरंतर पूजन-अर्चन और परिक्रमण करने और जल चढ़ाने से सुयोग्य संतान की प्राप्ति होती है। पर्याप्त पुण्य मिलता है और पित्रात्माएं तृप्त होकर कार्य सिद्धि में सहायक होती हैं। मनोकामना की पूर्ति के लिए पीपल के वृक्ष के तने पर सूत लपेटकर इच्छित लक्ष्य की पूर्ति हेतु प्रार्थना की जाती है।

पीपल के वृक्ष पर सूर्योदय से पूर्व दरिद्र देवता का अधिकार होता है। इसके विपरीत सूर्योदय के बाद इस पर लक्ष्मी का अधिकार होता है। यही कारण है कि सूर्योदय के बाद ही पीपल की पूजा की जाती है, जबकि सूर्योदय से पूर्व इसकी पूजा का निषेध किया गया है। धार्मिक श्रद्धालु जन मंदिर परिसर पर पीपल का वृक्ष अवश्य लगाते हैं। धर्मग्रंथों में पीपल को काटना या नष्ट करना ब्रह्म-हत्या के समान पाप कहा गया है।

Share this

Leave a Comment