यात्रा

यात्रा करे 51 शक्तिपीठो में से एक हिंगलाज माता के मंदिर की जिन्हे मुसलमान भी पूजते है

हिंगलाज माता मंदिर – Hinglaj Mata Temple Pakistan

हिंगलाज माता मंदिर, पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में सिंध राज्य की राजधानी कराची से 120 कि॰मी॰ उत्तर-पश्चिम में हिंगोल नदी के तट पर ल्यारी तहसील के मकराना के तटीय क्षेत्र में हिंगलाज में स्थित एक हिन्दू मंदिर है। यह इक्यावन शक्तिपीठ (51 Shakti Peeth) में से एक माना जाता है और कहते हैं कि यहां सती माता के शव को भगवान विष्णु के सुदर्शन चक्र से काटे जाने पर यहां उनका ब्रह्मरंध्र (सिर) गिरा था जिसका बखान हिंगलाज पुराण के साथ-साथ वामन पुराण, स्कंदपुराण में किया गया है।

हिंगलाज माता की कथा – Story of Hinglaj Mata

महाशक्ति पीठ की स्थापना के सम्बन्ध में तंत्र चूड़ामणि से ज्ञात होता है की राजा दक्ष की कन्या सती जिनके पति भगवान शिव थे राजा दक्ष का भगवान शिव से भ्रमवंश मनमुटाव हो गया इस पर दक्ष ने विशाल यज्ञ का आयोजन रख उसमे समस्त देवताओं और अपने सम्बन्धियों को इस अवसर पर निमंत्रण दिया । यज्ञ में रूद्र का कलश स्थापित नहीं किया गया । जब इस यज्ञ की सूचना सती को मिली तो उसने शिव को यज्ञ में सम्मिलित होने का आग्रह किया किन्तु शिव इससे इंकार कर गए ।

लेकिन सती अपने माता पिता के घर चली आई उससे जब किसी ने सम्मानपूर्वक बातचीत नहीं की तो उसके स्वाभिमान को गहरी ठेस पहुँची उसने तत्काल ही यज्ञकुण्ड में अपने को समर्पित कर दिया । जब इसकी सूचना भगवान शिव को मिली तो उन्होंने क्रोधित होकर वीरभद्र एवं अपने गणों को यज्ञ भंग करने की आज्ञा दे डाली, शिव गणों ने यज्ञ भंग कर राजा दक्ष का सिर काट कर यज्ञकुण्ड में दाल दिया ।

अनन्तर भोलेनाथ सती शव अपने कन्धे पर डालकर इधर उधर भ्रमण करने ललगे तब भगवान विष्णु चक्र द्वारा सती के शरीर के 52 टुकड़े कर दिए जहाँ से अंग अलग अलग दिशाओं स्पर्श हुए वहां अलग अलग शक्तिपीठों स्थापना हुई । भगवती सती का ब्रंहरंध्र हिंगलाज आकर गिरा था । भगवती की मांग हिंगलू (कुमकुम) से सुशोभित थी इसलिए हिंगुलाज कहलाता है ।

यह भी पढ़ें – 51 शक्ति पीठो मे से एक चिंतापूर्णी मंदिर – जहा माता सती के चरण गिरे थे

शक्ति पीठो का रहस्य

कश्मीर में सती का गला गिरने से वह वरहादेवी शक्ति पीठ बना, हिमालय में जीभ गिरने से ज्वालामुखी माता शक्ति पीठ, कलकत्ता में अंगुली गिरने से कालिका माता और कन्याकुमारी में पीठ गिरने से भद्रकाली शक्ति पीठ के नाम से पूजित हुई इस प्रकार जहा जहा भगवती के अंग गिरे वहां 52 स्थानों पर अलग अलग नामों से वह पूजी जाती है । तंत्र चूड़ामणि में 52 शक्तिपीठ का उल्लेख हुआ है जिन्हें महापीठ कहते हैं । कल्याण के तीर्थांक में 51 शक्तिपीठों और देवी भागवत में अष्टोत्तर शत (108) दिव्य शक्ति धाम का विवरण मिलता है ।

हिंगलाज माँ के 11 धाम

श्री करणी कथामृत से ज्ञात होता है कि आद्य शक्ति हिंगलाज के मुख्य एकादश धाम है। कांगड़ा की ज्वालामुखी, असम की कामख्या, मुदरा की मीनाक्षी, दक्षिण में कन्याकुमारी, गुजरात में अम्बाजी, मालवा की कालिका, वाराणसी की विशालाक्षी, गया की मंगलादेवी, बंगाल सुन्दरी और नेपाल की गुहयेश्वरी। हिंगुलालय सहित इन 11 रूपों में भगवती हिंगलाज पूजा ग्रहण करती है । शक्तिपीठ के बावन स्थानों में बावन भैरव भी निवास करते है । हिंगुलालय का भैरव भीमलोचन है ।

हिंगलाज माता मंदिर वैभव

शास्त्रों में माँ का अंग, आधार, वास, वर्ण, पहनावा आदि हिंगुल रंग के बताये गए है। हिंगलाज देवी के मन्दिर का दर्शन करने मात्र से ही कष्टों का निवारण क्षण भर में दूर हो जाता है, लेकिन यह तभी संभव है जब आपने देवी के मन रुपी  मन्दिर को अपने ह्रदय में समाहित कर लिया हो । शक्तिपीठ हिंगलाज के मन्दिर में माँ हिंगलाज की प्रतिमा एक गुफानुमा स्थान पर स्थित है । गुफा के अन्तिम भाग में माता का सिन्दुर वेष्टित पाषाण पाट लालवस्त्र से आच्छादित है।

प्राकृतिक रूप से शयनमुद्रा का आकार लिए माँ के शीश और नेत्र के दर्शन होते है । माँ के इस दरबार में लाल चुनड़िया देवी के शरीर को ढके है। सोने एवं चाँदी के छत्र उनकी महिमा का यशगान कर रहे है । देवी के निमित्त लाल चूनड़ी,चूड़ियाँ, काजल, छत्र, इत्र आदि श्रृंगारिक वस्तु अर्पित की जाती है। गुफा के बाहर शक्ति का प्रतीक त्रिशूल लगा है। पूजित पाषाण पाट के नीचे गर्भ गुफा है । जिसमे स्नान करके कटिवस्त्र धारण कर यात्रीयुगल वामभाग से गुफा में घुटनों के बल प्रवेश करते है और दक्षिण भाग से बाहर निकलते है। इसे माई स्पर्श करना कहते है ।

यह भी पढ़ें :  51 शक्ति पीठ – जहां माता सती के अंग, वस्त्र और आभूषण गिरे वही शक्तिपीठ कहलाये

चांगला खांप के मुसलमान  करते है हिंगलाज देवी की पूजा

ज्ञातव्य है कि हिंगलाज देवी की पूजा अर्चना चांगला खांप के मुसलमान करते है । जो चारणों से मुसलमान बने थे । वे अपने को चारण मुसलमान ही कहते हैं । हिंगलाज देवी की पूजा चांगला खांप की ब्रह्मचारिणी कन्या द्वारा होती है । इसलिए वह चांगली माई कहलाती है । चांगली माई साक्षात शक्ति स्वरूपा ही मानी जाती है । चांगली माई अपना हाथ नई कन्या के सिर पर रख कर नई चांगली माई तय करती है और उसे माँ की ज्योति जलाने का आशीर्वाद देती है ।

भारत में हिंगलाज माता के मंदिर

भारत में हिंगलाज के कई मन्दिर स्थित है । कुछ मन्दिरों का नामोल्लेख इस प्रकार है –

  • बाड़मेर जिले के सिवाना तहसील में छप्पन की पहाड़ियों में कोयलिया गुफा हिंगलाजमाता का प्रसिद्ध मन्दिर स्थित है ,यहाँ के पुजारी पुरी सन्यासी है ।
  •  सीकर जिले में फतेहपुर के दक्षिण में राष्ट्रिय राजमार्ग के निकट एक ऊँचे टीले पर महात्मा बुद्ध गिरी की मढ़ी है । कुछ सीढ़ियां चढ़कर ऊंचाई पर विशाल द्वार है जहाँ अग्रभाग में हिंगलाज माता का मन्दिर है यहाँ प्रज्वलित अखण्ड ज्योति श्रद्धालुओं की आस्था को बढाती है । गिरी सन्यासी माता के पुजारी है ।
  •  चुरू स्थित बीदासर ग्राम में नाथों के अखाड़े में देवी का पुराना मन्दिर स्थित है ।
  • अजमेर जिले  अराई से पूर्व में पहाड़ी पर माता का मन्दिर स्थित है ।
  •  जैसलमेर स्तिथ लोद्रवा ग्राम में हिंगलाज माता का प्राचीन मन्दिर  स्थित है जो अब अब भूमिगत हो गया है।अब सीढ़ियाँ उतर कर नीचे जाना पड़ता है ।
  •  जैसलमेर नगर के घड़सीसर जलाशय के मध्य एक गोल टापू पर हिंगलाज की साळ है । जैसलमेर के पुष्करणा समाज में माता का बड़ा इष्ट है ॥
  •  हरियाणा की सीमा पर बलेशवर के पर्वत पर माँ का प्राचीन मन्दिर स्थित है महराष्ट्र में गढ़ हिंगलाज एक तीर्थ स्थल है ।

 

About the author

Abhishek Purohit

Hello Everybody, I am a Network Professional & Running My Training Institute Along With Network Solution Based Company and I am Here Only for My True Faith & Devotion on Lord Shiva. I want To Share Rare & Most Valuable Content of Hinduism and its Spiritualism. so that young generation May get to know about our religion's power

Add Comment

Click here to post a comment

Author’s Choices

हर कष्टों के निवारण के लिए जपे ये हनुमान जी के मंत्र, श्लोक तथा स्त्रोत

सूर्य नमस्कार : शरीर को सही आकार देने और मन को शांत व स्वस्थ रखने का उत्तम तरीका

कपालभाति प्राणायाम : जानिए करने की विधि, लाभ और सावधानियाँ

डायबिटीज क्या है, क्यों होती है, कैसे बचाव कर सकते है और डाइबटीज (मधुमेह) का प्रमाणित घरेलु उपचार

कोलेस्ट्रोल : कैसे करे नियंत्रण, घरेलु उपचार, बढ़ने के कारण और लक्षण

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग : उत्तराखंड के चार धाम यात्रा में सबसे प्रमुख और सर्वोच्च ज्योतिर्लिंग

गृह प्रवेश और भूमि पूजन, शुभ मुहूर्त और विधिपूर्वक करने पर रहेंगे दोष मुक्त और लाभदायक

लघु रुद्राभिषेक पूजा : व्यक्ति के कई जन्मो के पाप कर्मो का नाश करने वाली शिव पूजा

तो ये है शिव के अद्भुत रूप का छुपा गूढ़ रहस्य, जानकर हक्के बक्के रह जायेंगे

शिव मंत्र पुष्पांजली तथा सम्पूर्ण पूजन विधि और मंत्र श्लोक

श्रीगणेश प्रश्नावली यंत्र के 64 अंकों से जानिए अपनी परेशानियों का हल