हिन्दू धर्म

अक्षय तृतीया की की महिमा निराली

Akshayअक्षय तृतीया एक ऐसी शुभ तिथि है जिसमें कोई भी शुभ कार्य हेतु, कोई नयी वस्तु खरीदने हेतु पंचांग देखकर शुभ मुहूर्त निकालने की आवश्यकता नहीं पड़ती। विवाह, गृह-प्रवेश जैसे शुभ कार्य भी बिना पंचांग देखे इस तिथि में किये जा सकते हैं। इस दिन पितृपक्ष में किये गए पिंडदान का अक्षय परिणाम भी मिलता है। अक्षय तृतीया में पूजा-पाठ और हवन इत्यादि भी अत्याधिक सुखद परिणाम देते हैं।यदि सच्चे मन से प्रभु से जाने-अनजाने में किए गया अपराधों के लिए क्षमा-याचना की जाए तो प्रभु अपने भक्तों को क्षमा कर देते हैं और उन्हें सत्य, धर्म और न्याय की राह में चलने की शक्ति प्रदान करते हैं।

अक्षय तृतीया के दिन व्रत-पूजा का खरीदारे करें कब -

अक्षय तृतीया सर्वसिद्ध मुहूर्तों में से एक मुहूर्त है। इस दिन भक्तजन भगवान विष्णु की आराधना में विलीन होते हैं।स्त्रियाँअपने और परिवार की समृद्धि के लिए व्रत रखती हैं।

ब्रह्म मुहूर्त में गंगा स्नान करके श्री विष्णुजी और माँ लक्ष्मी की प्रतिमा पर अक्षत चढ़ाना चाहिए। शांत चित्त से उनकी श्वेत कमल के पुष्प या श्वेत गुलाब, धुप-अगरबत्ती एवं चन्दन इत्यादि से पूजा अर्चना करनी चाहिए। नैवेद्य के रूप में जौ, गेंहू, या सत्तू, ककड़ी, चने की दाल आदि का चढ़ावा

करें। इसी दिन ब्राह्मणों को भोजन करवाएं और उनका आशीर्वाद प्राप्त करें।

साथ ही फल-फूल, बर्तन, वस्त्र, गौ, भूमि, जल से भरे घड़े, कुल्हड़, पंखे, खड़ाऊं, चावल, नमक, घी, खरबूजा, चीनी, साग, आदि दान करना पुण्यकारी माना जाता है।

अक्षय तृतीया के प्रमुख पौराणिक कथाएं -

एक पौराणिक कथा के अनुसार महाभारत के काल में जब पांडव वनवास में थे, तबएक दिन श्रीकृष्ण जो स्वयं भगवान विष्णु के अवतार है, ने उन्हें एक अक्षय पात्र उपहार स्वरुप दिया था। यह ऐसा पात्र था जो कभी भी खाली नहीं होता था और जिसके सहारे पांडवों को कभी भी भोजन की चिंता नहीं हुई और मांग करनेपर इस पात्र से असीमित भोजन प्रकट होता था। श्री कृष्ण से संबंधित एक और कथा अक्षय तृतीया के सन्दर्भ में प्रचलित है।
कथानुसार श्रीकृष्ण के बालपन के मित्र सुदामाइसी दिन श्रीकृष्ण के द्वार उनसे अपने परिवार के लिए आर्थिक सहायता मांगने गए था। भेंट के रूप में सुदामा के पास केवल एक मुट्ठीभर पोहा ही था। श्रीकृष्ण से मिलने के उपरान्त अपना भेंट उन्हें देने में सुदामा को संकोच हो रहा था किन्तु भगवान कृष्ण ने मुट्ठी भर पोहा सुदामा के हाथ से लिया और बड़े ही चाव से खाया। चूंकि सुदाम श्रीकृष्ण के अतिथि थे, श्रीकृष्ण ने उनका भव्य रूप से आदर-सत्कार किया।
ऐसे सत्कार से सुदामा बहुत ही प्रसन्न हुए किन्तु आर्थिक सहायता के लिए श्रीकृष्ण ने कुछ भी कहना उन्होंने उचित नहीं समझा औरवह बिना कुछ बोले अपने घर के लिए निकल पड़े।
जब सुदामा अपने घर पहुंचें तो दंग रह गए। उनके टूटे-फूटे झोपड़े के स्थान पर एक भव्यमहल था और उनकी गरीब पत्नी और बच्चें नए वस्त्राभूषण से सुसज्जित थे।
सुदामा को यह समझते विलंब ना हुआ कि यह उनके मित्र और विष्णुःअवतार श्रीकृष्ण का ही आशीर्वाद है। यहीं कारण है कि अक्षय तृतीया को धन-संपत्ति की लाभ प्राप्ति से भी जोड़ा जाता है।

नौ बातें जो अक्षय तृतीया को बनाते हैं सबसे खास -

-अक्षय तृतीया को शास्त्रों में बड़ा ही महत्व दिया गया है। आइये जानें वह नौ बातों जो अक्षय तृतीया के दिन हुए जिसने इस दिन को बनाया है बहुत ही शुभ और खास।

-अक्षय तृतीया को युगादि तिथि के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि इसी दिन सतयुग और त्रेतायुग का आरंभ हुआ था।

-अक्षय तृतीया के दिन भगवान विष्णु ने नर और नारायण के रूप में अवतार लिया था। नर नारायण ने बद्रीनाथ में तपस्या किया और इसे तीर्थ स्थान बनाया। यही नर नारायण अगले जन्म में अर्जुन  और कृष्ण हुए।

-माना जाता है कि महाभारत के युद्ध का समापन भी अक्षय तृतीया के दिन हुआ और पाण्डवों को हस्तिनापुर का साम्राज्य प्राप्त हुआ।

-शास्त्रों के अनुसार श्री कृष्ण का युग द्वापर का अंत भी अक्षय तृतीया के दिन हुआ था।

-ऐसी मान्यता है कि भगवान विष्णु के चरणों से निकली और शिव की जटा में वास करने वाली मां गंगा का धरती प आगमन भी अक्षय तृतीया के दिन हुआ।

-माना जाता है कि माहाभारत महाकाव्य की रचना बद्रीनाथ से करीब 3 किलोमीटर की दूरी पर माना गांव में गणेश गुफा में हुआ था। महर्षि वेद व्यास एवं श्रीगणेश ने अक्षय तृतीया के दिन ही इस  महाकाव्य का लेखन कार्य शुरू किया था।

-चार धामों में प्रमुख बद्रीनाथ की यात्रा का आरंभ अक्षय तृतीया के दिन से शुरू होता है। अक्षय तृतीया के दिन गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट खुलते हैं उसके अगले दिन केदारनाथ और फिर बद्रीनाथ  के कपाट खुलते हैं।

-वृन्दावन के श्री बांके बिहारी जी मंदिर में पूरे वर्ष में केवल एक बार, अक्षय तृतीया के दिन श्री विग्रह के चरणों के दर्शन होते हैं।

-गीता में भगवान श्री कृष्ण ने स्वयं यह बात कही है। अक्षय तृतीया के दिन ही विष्णु का एक अन्य अवतार हयग्रीव के रूप में हुआ था जिनका सिर अश्व का था।

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?

Copy Protected by Nxpnetsolutio.com's