Tag - Hindu Dharma

मंत्र-श्लोक-स्त्रोतं

भगवान् दत्तात्रेय के अचूक मंत्र जो करेंगे सम्पूर्ण जीवन को सुखी और मनोवांछित फल से भरपूर

घर में क्लेश ना होने के लिए मंत्र | Grah Kalesh Nivaran Mantra दत्तात्रेय भगवान का चित्र स्थापित करे । चित्र के समुख एक पानीवाला नारियल मिट्टी के घड़े के ऊपर...

पौराणिक कथाएं

प्रदोष व्रत कथा : जानिए क्या है इस व्रत का महत्व, कैसे करें पूजा?

प्रत्येक माह की दोनों पक्षों की त्रयोदशी के दिन संध्याकाल के समयको “प्रदोष” कहा जाता है और इस दिन शिवजी को प्रसन्न करने के...

पौराणिक कथाएं

जानिये उत्पन्ना (उत्पति) एकादशी व्रत कथा व पूजा विधि

वर्ष 2017 में उत्पन्ना एकादशी (Utpanna Ekadashi) का व्रत 14 नवबंर को है। एकादशी व्रत कथा व महत्व के बारे में तो सभी जानते हैं। हर मास की कृष्ण व शुक्ल पक्ष को...

हिन्दू धर्म

जाने कार्तिक पूर्णिमा महिमा और पूजा विधि, क्यों करते है इस दिन भगवान शिव और गंगा की पूजा

हिंदू धर्म में कार्तिक के महीने का खासा महत्‍व होता है. कार्तिक पूर्ण‍िमा (Kartik Purnima) इस साल 4 नवंबर को है. सभी 12 पूर्णिमाओं में कार्तिक मास (Kartik Mas)...

हिन्दू धर्म

जानिए भगवान् दत्तात्रेय की जन्म कथा, साधना विधि, अवतार और उनके 24 गुरुओ के बारे मे

भगवान् दत्तात्रेय की जन्म कथा (Lord Dattatrey Birth Story) हिंदू धर्म में भगवान दत्तात्रेय को त्रिदेव ब्रह्मा, विष्णु और महेश का एकरूप माना गया है। धर्म...

हिन्दू धर्म

धनतेरस 2017: जानिए क्या है शुभ मुहर्त, किस मंत्र का करें जाप

धनतेरस 2017: जानिए क्या है शुभ मुहर्त, किस मंत्र का करें जाप भारत में हर त्योहार का अपना महत्व है. ऐसा ही एक त्योहार धनतेरस है. दिवाली से पहले धनतेरस पर पूजा...

भक्ति

परमात्मा के अनेक नाम और उनमे छुपा उनका चरित्र रहस्य

परमात्मा के विविध नाम (Name of Hindu God & Goddess) किसी का भी संबोधन हम उसके नाम से करते हैं | नाम हमारे गुणों के सूचक हैं नियमानुसार रखे जाए अतः नाम गुण...

हिन्दू धर्म

पितृपक्ष श्राद्ध 2017 : जानिए श्राद्ध करने के महत्व, विधि, तिथि और नियम

पितृ पक्ष 2017 : इस साल श्राद्ध 5 सितंबर से शुरू होकर 19 सितंबर तक  श्राद्ध क्या है ?  ब्रह्म पुराण के अनुसार जो भी वस्तु उचित काल या स्थान पर पितरों के नाम...

हिन्दू धर्म

इन शास्त्रोक्त विधि और नियम से श्राद्ध सम्पूर्ण माना जायेगा

पितृ श्राद्ध करने के नियम – धर्म ग्रंथों के अनुसार श्राद्ध के सोलह दिनों में लोग अपने पितरों को जल देते हैं तथा उनकी मृत्युतिथि पर श्राद्ध करते हैं। ऐसी...

भक्ति

क्या जीवन सार “जाही विधी राखे राम ताही विधी रहिये” मे ही है ?

  यह ब्रह्माण्ड बहुत विशाल है, इसके हर तत्त्व को, इसकी हर रचना को ना तो जाना जा सकता है और ना ही समझा जा सकता है, हमारी पृथ्वी का एक ही सूर्य लाखों डिग्री...

नयी पोस्ट आपके लिए