फेंग्सुई

फेंग शुई

feng-shui-1

क्या है फेंग शुई ?

फेंग शुई का चीनी भाषा में शाब्दिक अर्थ हैं हवा और पानी।

प्राचीन चीनी ज्योतिषियों की राय में ऊर्जा हवा और जल के साथ बहते हुए अपना कार्य करती है। जहां ऊर्जा के लिए जल अधिक सीमा होने पर अवरोधक का कार्य करते है तो हवा ऊर्जा के बहाव में सहायक होती है। यह दोनों तत्व इंसान के जीवन के लिए बेहद जरुरी हैं और प्रकृति से संतुलन बना हम इसे काबू कर सकते हैं।

3500 साल से भी अधिक पूरानी इस कला का इतिहास बेहद उतार-चढ़ाव रहा। कभी इसे शान समझा गया तो कभी चीन में इसकी शिक्षा और इसके अनुसंधान तक पर रोक लगाई गई ।लेकिन विश्वसनीयता और उपयोग की कसौटी पर खरा उतरने के कारण लोगों में इसकी दीवानगी कम नहीं हुई है।

फेंग शुई – विज्ञान या अंधविश्वास

कई लोग मानते हैं कि फेंग शुई टिप्स इस्तेमाल कर वह रातों-रात लखपति बन जाएगें, ऐसा गलत है। हर ज्योतिष विधि की तरह यह भी इंसान को उसके कर्मों का फल देता है लेकिन कुछेक उपाय जैसे लाफिंग बुद्धा, हाथी या मछली का जोड़ा कई बार इंसान के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाने में सहायक होते है। कई लोग फेंग शुई को अंधविश्वास मानते हैं और इसे विज्ञान की कसौटी पर प्रमाण देने की बात कहते हैं लेकिन भारतीय ज्योतिष विज्ञान और दुनिया भर में फैली आस्था और ज्योतिष की तरह इसके भी पुख्ता वैज्ञानिक प्रमाण नहीं मिलते।

About the author

Niteen Mutha

नमस्कार मित्रो, भक्तिसंस्कार के जरिये मै आप सभी के साथ हमारे हिन्दू धर्म, ज्योतिष, आध्यात्म और उससे जुड़े कुछ रोचक और अनुकरणीय तथ्यों को आप से साझा करना चाहूंगा जो आज के परिवेश मे नितांत आवश्यक है, एक युवा होने के नाते देश की संस्कृति रूपी धरोहर को इस साइट के माध्यम से सजोए रखने और प्रचारित करने का प्रयास मात्र है भक्तिसंस्कार.कॉम

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?

1 Comment

error: Content is protected !!