Uncategorized

दीपावली पर महालक्ष्मी को प्रसन्न करे इन अचूक उपाय और टोटको से और जाने लक्ष्मी आगमन के संकेत

diwali-totke-upay-2018

दीपावली पर महालक्ष्मी को कैसे करे प्रसन्न ?

दीपावाली हिन्दू धर्म का मुख्य पर्व है। रोशनी का पर्व माना जाने वाली दीवाली कार्तिक अमावस्या के दिन होती है। इस साल दीवाली 7 नवम्बर 2018 को है। इस दिन श्री गणेश और ऐश्वर्य की देवी महालक्ष्मी जी की पूजा की जाती है। माना जाता है कि दीपावली के दिन अयोध्या के राजा श्री रामचंद्र अपने चौदह साल का वनवास करके वापस लौटे थे। इस दिन हम महा लक्ष्मी की विधि विधान से पूजा करते है। दीपावली का त्योहार 5 दिनों का होता है। इन दिनों में दीपावली की शुरूआत घनतेरस से होती है। उसके बाद क्रमश: नरक चतुर्दशी, दीपावली, गोवर्धन पूजा और भइया दूज आता है।

दीपावली पर करे धन वृद्धि के अचूक उपाय और टोटके

लक्ष्मी की गहन चाह वाले व्यक्ति को धन वृद्धि के लिए दीपावली के पावन अवसर पर कुछ सरल और सटीक उपाय तो अवश्य ही करने चाहिए लेकिन सवाल उठता है, कि क्या हों ऐसे उपाय। धन के बिना कोई भी पारिवारिक, सामाजिक अथवा आध्यात्मिक कार्य करना संभव नहीं है। धन (लक्ष्मी) का आगमन होता है मेहनत, लगन एवं भाग्य से, परंतु कुछ मनुष्य कठोर परिश्रम, लगन से कार्य करते हैं परंतु भाग्य के मंद होने के कारण धनवृद्धि नहीं हो पाती। ऐसे मनुष्यों को दीपावली के पावन अवसर पर धनवृद्धि हेतु निम्नलिखित प्रयोग करने चाहिये।

  • दीपावली को किसी भी लक्ष्मी- विष्णु मंदिर में जाकर सुगन्धित धूप अर्पित करे तथा हृदय से धनवृद्धि करने की प्रार्थना करे। इसके पश्चात प्रत्येक शुक्रवार यह क्रिया दोहराते रहें।
  • पुष्य नक्षत्र में ‘शंखपुष्पी की जड़ प्राप्त कर दीपावली के दिन इस जड़ को एक चांदी की डिब्बी में रखकर लक्ष्मी-नारायण का ध्यान करते हुये धूप दीप से पूजित करे, फिर इसे अपने कैश बाक्स या तिजोरी में रखे।
  • दीपावली के दिन ब्रह्मदेव से अनुमति लेकर एक पीपल का पत्ता लाये फिर उसे गंगाजल से धोकर पोछकर उस पर लाल चंदन से ‘राम’ लिखे तथा कुछ मिठाई रखकर हनुमान जी को चढ़ा दें। फिर यह क्रिया माह में एक बार मंगलवार को करें।
  • दीपावली को पूरे घर की सफाई करें फिर निर्धारित समय पर लक्ष्मी पूजन करें। फिर प्रत्येक अमावस्या को यह प्रक्रिया करते रहें।
  • दीपावली के दिन एक नारियल बड़ा-सा लें। फिर उसमें एक छेद इस प्रकार करे कि रूपये आदि इसके अंदर जा सके। दीपावली पूजन में इस नारियल की भी विधिवत पूजा करें और फिर इसमें एक रूपया डाल कर तिजोरी में रख लें, फिर जो भी धन लाये उसमें से एक रूपया इसमें डाले। ध्यान यह रखना है कि दिन में जितने बार भी घर में धन लाये उसमें से एक रु. डालना है, जब यह भर जाये तो इसमें जमा धनराशि निकालकर शुक्रवार को कन्याओं में बांट दे तथा नारियल को जल में प्रवाहित कर दें। शुक्रवार को ही दूसरा नारियल लेकर इसी प्रकार आगे भी करते रहें।
  • दीपावली के दिन किसी सुहागिन महिला को शृंगार सामग्री दान दे। फिर चार गुरुवार यह कार्य और करें।
  • दीपावली के दिन लाल रेशमी वस्त्र में 11 छुहारे रखकर पोटली बनाकर तिजोरी में रखें। दीपावली के दिन से घर की छत पर प्रातःकाल प्रत्येक दिन काले तिल बिखेर दिया करें।
  • दीपावली पूजन के साथ एक चांदी की डिब्बी में थोड़ा-सा सिंदूर और तीन गोमती चक्र रखकर इनका भी पूजन करें। फिर सिंदूर से पूरी डिब्बी भरकर इसको तिजोरी में पीले वस्त्र में बोधकर रखें।
  • दीपावली के दिन 11 कौड़ियों को केसर से रंगकर, लक्ष्मी पूजन के साथ उन का भी पूजा करें और फिर पीले वस्त्र में बांधकर तिजोरी में रखे।
  • पीले रेशमी वस्त्र पर 7 गोमती चक्र, 3 पूजा वाली सुपारी एवं एक मोती शंख में एक चांदी का सिक्का डालकर दीपावली के दिन पूजा स्थल पर रक्खे, लक्ष्मी पूजन के पश्चात ‘ऐं ह्रीं श्रीं क्लीं’ मंत्र की एक माला जाप करें। प्रत्येक जाप पर चावल का एक अखंडित दाना मोती शंख में डालते रहें। अंतिम जाप पर यदि शंख चावल से पूर्ण न भरा हो तो अंतिम जाप में चावल से पूरा भर दें। फिर इस संपूर्ण सामग्री को रक्खे गये वस्त्र से बांधकर तिजोरी पर लटका दें।

लक्ष्मी आगमन के संकेत

दीपावली की रात कुछ ऐसी चीजें हैं जो आपको आसानी से नहीं दिखतीं। यूं तो आम दिनों में चलते फिरते दिख जाएंगी लेकिन दीपावली की रात इन्हें देखना शुभ होता है लेकिन उतना ही मुश्किल भी।

उल्लू – यूं तो उल्लू को अशुभ प्राणी माना जाता है लेकिन दीपावली के दिन उल्लू के दर्शन किस्मत के दरवाजे खोल देते हैं। दरअसल उल्लू मां लक्ष्मी की सवारी माना जाता है और कहा जाता है कि दीपावली की रात उल्लू दिख जाए तो समझिए कि खुद मां लक्ष्मी उस पर बैठ कर आपके घर पधारी हैं।

छछूंदर – वैसे तो छछूंदर घर को खराब करता है लेकिन दीपावली के दिन इसके दर्शन हो जाएं तो समझिए कि पूरा साल पैसा बरसने वाला है। कहते हैं कि छछूंदर घर में लक्ष्मी के आने का संकेद देता है। तो देर किस बात की…इस बार जरा नजर रखिएगा, कहीं छछूंदर दिख जाए तो।

बिल्ली बिल्ली यूं तो हर घर में घूमती मिल जाएगी लेकिन ऐन दीवाली के दिन जाने कहां छिप कर बैठ जाती है। दरअसस बिल्ली भी लक्ष्मी का प्रतीक है। इस दिन बिल्ली के दर्शन हो जाएं तो साल भर धन की कमी नहीं रहती और सुख बरसता है।

केसरिया गाय – शकुन शास्त्र के अनुसार केसरिया गाय देवत्व का प्रतीक है और दीपावली की रात इसे देखने से सुख समृद्धि का आगमन होता है। इसलिए इस बार दीपावली पर केसरिया गाय के दर्शन करें।

मकड़ी का जाला – आप दीवाली से पहले ही घर में लगे मकड़ी के जालों को जतन से साफ कर देंगे लेकिन फिर भी अगर कोई मकड़ी का जाला दिख जाए तो उस जाले में अपने नाम का अक्षर खोजिए। अगर आपको अपने नाम के अक्षर की झलक मिल जाए तो समझिए पूरा साल आपका शुभ ही शुभ रहेगा

किन्नर का सिक्का – यूं तो आप किन्नरों से दूर ही रहते होंगे लेकिन दीपावली की रात अगर कोई किन्नर सहर्ष रूप से आपको कुछ धन देना चाहे तो मना मत कीजिएगा। खुले मन से किया गया किन्नर का दान पाने वाले पर साल भर लक्ष्मी की कृपा बरसती है और उसे कभी धन की कमी नहीं होती।

दीपावली पर धन वृद्धि के अचूक उपाय और टोटके

 

वास्तु दोष दूर करने हेतु 

आज लगभग सभी घर में वास्तु दोष होता है और वास्तु दोष को  शांत करने का सबसे आसान और प्रभाशाली उपाय धनतेरस को पूजन के उपरांत एक दीपक जलाया जाना चाहिए जो भैया दूज तक जलता रहे, इस से उस स्थान के वास्तु दोष शांत होते हैं |

लक्ष्मी कृपा के लिए

यदि आप चाहते हैं पूरे साल आप पर लक्ष्मी जी खुश रहे तो नरकचतुर्दशी को सफाई के बाद घर के सभी झाड़ू को घर के बाहर फेंक दें और दीपावली वाले दिन बाजार से नयी झाड़ू खरीद कर लाएं, दीपावली पूजन से पहले पूजन स्थान पर उसी नयी झाड़ू से सफाई करें और पूजन निपटा लें | अगले दिन सूर्योदय से पूर्व पूरे घर में उसी नयी झाड़ू से पूरे घर में झाड़ू लगा के घर का कचरा घर के बाहर फेंक दें, पूरे वर्ष माता लक्ष्मी की पूर्ण कृपा बनी रहेगी |

छिपकली से वैसे तो लोगों को घृणा आती है या कई लोग तो डरते हैं, परन्तु यदि छिपकली के दर्शन यदि धनतेरस पर हो जाएँ तो पूरे वर्ष धन की कमी नहीं रहती |

 ऋण मुक्ति हेतु उपाय 

ऋण ऐसी समस्या है, जिसमें मनुष्य फँस जाए तो निकल पाना मुश्किल होता है जो इस समस्या से निकल जाता है वह व्यक्ति भाग्यशाली है वरना कई पीढ़ियाँ निकल जाती हैं। दीपावली के दिन छोटा सा टोटका (उपाय) करें। दीपावली की रात्रि को ठीक 12 बजे पाँच गुलाब के फूल लें, इसके पश्चात् डेढ़ मीटर सफेद कपड़ा लेकर अपने सामने बिछाएँ, फिर उसकी चौकोर कर लें, फिर इन पाँचों गुलाब के फूल को एक-एक करके गायत्री मंत्र पढ़ते हुए कपड़े के मध्य में रखते रहें। फिर बाँधकर ऊपर रख दें।

गायत्री मंत्र ‍निम्न है- “ऊँ भुर्भुव: स्व: तत्सवितुवरेण्यम भर्गो देवस्यधीमही धियो योन: प्रचोदयात् ॥”

धन-धान्य एवं विशिष्ट लाभ प्राप्ति हेतु 

दीपावली की रात को बारह बजे से एक के मध्य गंगाजल एवं सवा सौ ग्राम बेसन की पीली बर्फी अपने पास में लेकर आसन पर बैठ जाएँ। उसके बाद निम्न मंत्र की माला 11 बार जपें।

 ॥ ऊँ यक्षाय कुबेराय वैश्रवसाय, धन धान्यधिपतयेधनधान्य समृद्धि में देहि दापय स्वाहा ॥

ये कर्म करने के पश्चात पीली मिठाई बच्चों को बाँट दें एवं गंगाजल अपने कार्यस्थल में छिड़क दें। प्रतिदिन 9 माला करने से लक्ष्मी की कृपा से धन्य-धान्य की वृद्धि होगी। व्यापारी बंधु अवश्य करें।

महालक्ष्मी को प्रसन्न करने के सरल उपाय

शास्त्रों अनुसार माना जाता है कि इन दिनों में महालक्ष्मी हमारें घरों में आती है। जिनकी आगमन के लिए हम उनकी आराधना करते है। जिससे कि वो हम पर अपनी कृपा बरसाती रहें। कभी-कभी दीपावली के इन दिनों में हम बिना जानें कुछ ऐसे काम कर देते है जिससे महालक्ष्मी क्रोधित हो जाती है। जानिए ऐसी ही कुछ कामों के बारें में जिसके करने से माता लक्ष्मी अप्रसन्न हो जाती है।

सूर्योदय से पहलें उठें 

आमतौर में हमें जल्दी ही उठना चाहिए, लेकिन बहुत से लोग होते जो सुबह किसी कारण वश देर से उठते है। शास्त्रों की बात मानों तो हमें दीपावली के दिनों में ब्रह्म मुहूर्त में उठना चाहिए। ऐसा करने से माता लक्ष्मी आप पर प्रसन्न रहती है। साथ ही आपके घर में कभी भी धन-धान्य की कमी नही होती है। इसलिए इन दिनों में जल्दी उठनें की कोशिश करें।

सूर्यास्त के समय न सोएं

अगर आपको कोई शारिरीक समस्या है य़ा फिर कोई गर्भवती महिला है तो ही शाम के समय सोएं या आराम करें। नही तो इस समय आपको नही सोना चाहिए। माना जाता है कि इस समय माता लक्ष्मी हमारें घर आती है । अगर आप सोते मिले तो वह दरवाजें से ही वापस लौट जाएगी। जिससे आपके घर गरीबी का निवास हो जाएगा।

नशा न करें 

शास्त्रों के अनुसार इन दिनों में किसी भी प्रकार का नशा करना वर्जित माना जाता है। जो लोग दीपावली के दिन नशा करते हैं, वे सदैव दरिद्र ही बने रहते हैं। नशा अभिशाप के समान माना गया है। साथ ही घर की पवित्रता नष्ट होती है, शांति भंग हो सकती है, वाद-विवाद हो सकते हैं और धार्मिक कर्म ठीक से पूर्ण नहीं हो पाते हैं। इसलिए इन दिनों में नशें से दूर रहना चाहिए।

अपने से बड़ो का करें आदर 

शास्त्रों में लिखा है कि अपने से बड़े का हमेशा आदर करना चाहिए। कभी भी उनसे गलत तरीके से व्यवहार नही करना चाहिए। ऐसा करने से देवी-देवता क्रोधित होते है। इसी तरह दीपावली के दिनों में तो निल्कुल भी किसी को पर्शान या फिर किसी बडे इंसान को सताएं न। ऐसा करने से आपके घर में कभी भी दरिद्रता नही आती है।

किसी से लड़ाई-झगड़ा न करें 

दीपावली के दिनों में किसी से भी किसी बात पर बहस या झगड़ा न करें। परिवार के सभी सदस्यों को मिलजुल कर प्रेम से रहना चाहिए। जिससे घर में खुशी का माहौल रहेगा। साथ ही आप पर माता लक्ष्मी की कृपा रहेगी। घर में शांति रहने से उस घर में कभी भी लक्ष्मी नही जाती है। इसलिए सभी को प्रेमपूर्वक रहना चाहिए।

घर को रखें साफ

दीपावली में अपने घर को साफ रखना चाहिए। जिससे जब भी लक्ष्मी आए तो बिना रूके अंदर चली जाएं। माता का आगमन अपने घर में करने के लिए सुगंधित फूलों और इत्र का भी छिड़काव करना चाहिए जिससे घर पर किसी भी प्रकार की बदबू न आए।

गुस्सा करने से बचें

दीपावली के दिनों में गुस्सा नहीं करना चाहिए और तेज आवाज में चिल्लाना नही चाहिए। ऐसा करना अशुभ माना जाता है। अगर आप गुस्सा करते है तो आपके ऊपर कभी भी लक्ष्मी प्रसन्न नही होगी। जिससे आपके घर में अशांति, गरीबी का निवास हो जाएगा।

About the author

Pandit Niteen Mutha

नमस्कार मित्रो, भक्तिसंस्कार के जरिये मै आप सभी के साथ हमारे हिन्दू धर्म, ज्योतिष, आध्यात्म और उससे जुड़े कुछ रोचक और अनुकरणीय तथ्यों को आप से साझा करना चाहूंगा जो आज के परिवेश मे नितांत आवश्यक है, एक युवा होने के नाते देश की संस्कृति रूपी धरोहर को इस साइट के माध्यम से सजोए रखने और प्रचारित करने का प्रयास मात्र है भक्तिसंस्कार.कॉम

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?

Copy past blocker is powered by https://bhaktisanskar.com