राजस्थानी भजन

दर्शन दो घनश्याम नाथ

ghanshyam nath

ghanshyam nath

दर्शन दो घनश्याम नाथ (Darshan do Ganshyam nath bhajan in hindi Mp3)

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी अँखियाँ प्यासी रे..

मन मंदिर में ज्योत जगा दो, घट घट वासी रे…

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरि अँखियाँ प्यासी रे ..

मंदिर मंदिर मूरत तेरी फिर भी न दीखे सूरत तेरी .

युग बीते ना आई मिलन की पूरनमासी रे ..

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरि अँखियाँ प्यासी रे..

द्वार दया का जब तू खोले पंचम सुर में गूंगा बोले .

अंधा देखे लंगड़ा चल कर पँहुचे काशी रे ..

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरि अँखियाँ प्यासी रे ..

पानी पी कर प्यास बुझाऊँ नैनन को कैसे समजाऊँ .

आँख मिचौली छोड़ो मनके वासी रे ..

दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरि अँखियाँ प्यासी रे ..

Search Kare

सर्वाधिक पढ़ी जाने वाली पोस्ट

bhaktisanskar-english

Subscribe Our Youtube Channel