बौद्ध धर्म

बुद्ध जयन्ती

lord-bhudhaवैशाख पूर्णिमा को बुद्ध पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है। इस दिन बौद्ध धर्म के प्रवर्तक गौतम बुद्ध का जन्म हुआ था। गौतम बुद्ध के बचपन का नाम सिद्धार्थ गौतम था। एक राजवंश में पैदा होने के बाद भी उन्होंने समस्त सांसारिक सुखों को त्याग कर कठिन तपस्या के बल पर ज्ञान प्राप्त किया। ज्ञान प्राप्ति के बाद ही सिद्धार्थ गौतम “गौतम बुद्ध” बने।

बुद्ध पूर्णिमा (Budhpurnima 2016)

वर्ष 2016 में बुद्ध पूर्णिमा 21 मई को मनाई जाएगी।

भगवान बुद्ध की शिक्षाएं :

गौतम बुद्ध ने ही “बौद्ध” धर्म की स्थापना की थी। “बुद्धं शरणम गच्छामि, धम्मं शरणम गच्छामि संघम शरणम गच्छामि” यानि मैं बुद्ध की शरण लेता हूं, धर्म की शरण लेता हूं और संघ की शरण लेता हूं यही बौद्ध धर्म का मूल सार है। भगवान बुद्ध की शिक्षाएं इंसान को सदैव धर्म और कर्तव्य की राह पर चलने की प्रेरणा देती हैं। भारत में सारनाथ और बोध गया बौद्ध धर्म के श्रद्धालुओं के लिए तीर्थ समान हैं।

 

About the author

Niteen Mutha

नमस्कार मित्रो, भक्तिसंस्कार के जरिये मै आप सभी के साथ हमारे हिन्दू धर्म, ज्योतिष, आध्यात्म और उससे जुड़े कुछ रोचक और अनुकरणीय तथ्यों को आप से साझा करना चाहूंगा जो आज के परिवेश मे नितांत आवश्यक है, एक युवा होने के नाते देश की संस्कृति रूपी धरोहर को इस साइट के माध्यम से सजोए रखने और प्रचारित करने का प्रयास मात्र है भक्तिसंस्कार.कॉम

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?

error: Content is protected !!