Category - श्री राम भजन

श्री राम भजन

ठुमक चलत रामचंद्र

ठुमक चलत रामचंद्र (Thumak chalat Ramchander bhajan in hindi Mp3) PlayStop Xठुमक चलत रामचंद्र बाजत पैंजनियां .. किलकि किलकि उठत धाय गिरत भूमि लटपटाय . धाय मात गोद लेत दशरथ की रनियां .. अंचल रज अंग झारि विविध भांति सो दुलारि .तन मन धन वारि वारि कहत मृदु बचनियां .. विद्रुम से अरुण अधर बोलत मुख मधुर मधुर . सुभग नासिका में चारु लटकत लटकनियां .. तुलसीदास अति आनंद देख के मुखारविंद . रघुवर छबि के समान रघुवर छबि बनियां .. 

श्री राम भजन

सुख पाऊँ राम भजन में

सुख पाऊँ राम भजन में (Sukh Pau Ram Bhajan in hindi Mp3) PlayStop X मन लाग्यो मेरो यार फ़कीरी में .. जो सुख पाऊँ राम भजन में सो सुख नाहिं अमीरी में मन लाग्यो मेरो यार फ़कीरी में .. भला बुरा सब का सुन लीजै कर गुजरान गरीबी में मन लाग्यो मेरो यार फ़कीरी में .. आखिर यह तन छार मिलेगा कहाँ फिरत मग़रूरी में मन लाग्यो मेरो यार फ़कीरी में .. प्रेम नगर में रहनी हमारी साहिब मिले सबूरी में मन लाग्यो मेरो यार फ़कीरी में .. कहत कबीर सुनो भयी साधो साहिब मिले सबूरी......

श्री राम भजन

प्रेम मुदित मन से कहो राम

प्रेम मुदित मन से कहो राम (Prem mudit mann se kaho ram bhajan in hindi Mp3) PlayStop X प्रेम मुदित मन से कहो, राम, राम, राम . राम, राम, राम, श्री राम, राम, राम .. पाप कटें, दुःख मिटें, लेत राम नाम . भव समुद्र, सुखद नाव, एक राम नाम .. राम, राम, राम, श्री राम, राम, राम .. परम शांति, सुख निधान, दिव्य राम नाम . निराधार को आधार, एक राम नाम .. राम, राम, राम, श्री राम, राम, राम .. परम गोप्य, परम इष्ट, मंत्र राम नाम . पाप कटत, मुक्त करत, एक राम नाम ......

श्री राम भजन

रामजी करेंगे बेड़ा पार

रामजी करेंगे बेड़ा पार (Ram ji karengye beda paar bhajan in hindi Mp3) PlayStop X तेरा रामजी करेंगे बेड़ा पार, उदासी मन काहे को करे .. नैया तेरी राम हवाले, लहर लहर हरि आप सम्हाले, हरि आप ही उठायें तेरा भार, उदासी मन काहे को करे .. काबू में मंझधार उसी के, हाथों में पतवार उसी के, तेरी हार भी नहीं है तेरी हार, उदासी मन काहे को करे .. सहज किनारा मिल जायेगा, परम सहारा मिल जायेगा, डोरी सौंप के तो देख एक बार, उदासी मन काहे को करे ......

श्री राम भजन

राम राम रट रे

राम राम रट रे (Ram ram rat le bhajan in hindi mp3) PlayStop X राम, राम, राम, राम, राम, राम, रट रे .. भव के फंद, करम बंध, पल में जाये कट रे .. कुछ न संग ले के आये, कुछ न संग जाना . दूर का सफ़र है, सिर पे बोझ क्यों बढ़ाना . मत भटक इधर उधर, तू इक जगह सिमट रे .. राम, राम, राम, राम, राम, राम, रट रे .. राम को बिसार के, फिरे है मारा मारा . तेरे हाथ नाव राम, पास है किनारा . राम की शरण में जा, चरण से जा लिपट रे ..  राम, राम, राम, राम, राम, राम, रट रे ......

श्री राम भजन

राम करे सो होय रे मनवा

राम करे सो होय रे मनवा (Ram kare so hoye re Manwa bhajan in hindi Mp3) PlayStop X राम झरोखे बैठ के सब का मुजरा लेत . जैसी जाकी चाकरी वैसा वाको देत .. राम करे सो होय रे मनवा, राम करे सो होये .. कोमल मन काहे को दुखाये, काहे भरे तोरे नैना . जैसी जाकी करनी होगी, वैसा पड़ेगा भरना . काहे धीरज खोये रे मनवा, काहे धीरज खोये .. पतित पावन नाम है वाको, रख मन में विश्वास . कर्म किये जा अपना रे बंदे, छोड़ दे फल की आस . राह दिखाऊँ तोहे रे मनवा, राह दिखाऊँ तोहे ......

श्री राम भजन

कौशल्या रानी अपने लला

कौशल्या रानी अपने लला (Koshaliya rani apne lala bhajan in hindi Mp3) कौशल्या रानी अपने लला को दुलरावे सुनयना रानी अपनी लली को दुलरावे मुख चू्मे और कण्ठ लगावे मन में मोद में मनावे कौशल्या रानी मन में मोद में मनावेशिव ब्रह्मा जाको पार न पावे निगम नेति कहि गावे कौशल्या रानी निगम नेति कहि गावे हरि सहचरि बड़ भाग्य निराली अपनी गोद खिलावे कौशल्या रानी अपनी गोद खिलावे 

श्री राम भजन

दूलह राम सीय दुलही री

दूलह राम सीय दुलही री (Dulah ram siyh dulahi ri bhajan in hindi MP3)दूलह राम, सीय दुलही री । घन दामिनि बर बरन हरन मन । सुन्दरता नख सिख निबही री ॥ तुलसीदास जोरी देखत सुख ।सोभा अतुल न जात कही री ॥ रूप रासि विरचि बिरंचि मनु । सिला लमनि रति काम लही री ॥ 

श्री राम भजन

रघुवर की सुधि आई

रघुवर की सुधि आई (Raguver ki sudhi Aae bhajan in hindi Mp3) आज मुझे रघुवर की सुधि आई ।  आगे आगे राम चलत हैं । पीछे लछमन भाई । तिनके पीछे चलत जानकी ।बिपत कही ना जाई ॥ सीया बिना मोरी सूनी रसोई । लछमन बिन ठकुराई । राम बिना मोरी सूनी अयोध्या । महल उदासी छाई ॥ 

श्री राम भजन

राम दो निज चरणों में स्थान

राम दो निज चरणों में स्थान (Ram do nig charano me isthan bhajan in hindi Mp3) राम दो निज चरणों में स्थान शरणागत अपना जन जान अधमाधम मैं पतित पुरातन । साधन हीन निराश दुखी मन। अंधकार में भटक रहा हूँ । राह दिखाओ अंगुली थाम। राम दो … सर्वशक्तिमय राम जपूँ मैं । दिव्य शान्ति आनन्द छकूँ मैं। सिमरन करूं निरंतर प्रभु मैं । राम नाम मुद मंगल धाम। राम दो … केवल राम नाम ही जानूं । और धर्म मत ना पहिचानूं । जो गुरु मंत्र दिया सतगुरु ने। उसमें है......

error: Content is protected !!