Category - शिव भजन

शिव भजन

सुनिये शिवजी के नए भजन

मेरा भोलेनाथ ऐसा भक्तो का रखवाला हैं मेरा भोलेनाथ ऐसा भक्तो  का रखवाला हैं, सचमुच में भोला भाला है, मेरा भोलेनाथ... है भांग का सरिया, कैलाश का वसिया, रमिया राम रंग का है चन्द्र मस्तक पर, गले में है विषधर, है धारक गंग का शरणागत की प्रेम भक्ति का यही......

शिव भजन

शिव शंकर को जिसने पूजा

शिव शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ। अंत काल को भवसागर में उसका बेडा पार हुआ॥ भोले शंकर की पूजा करो, ध्यान चरणों में इसके धरो। हर हर महादेव शिव शम्भू। हर हर महादेव शिव......

शिव भजन

बाबा अमरनाथ बर्फानी

बाबा अमरनाथ बर्फानी, योगिराज दया के दानी | भूखे को है भोजन देते और प्यासे को पानी || बाबा अमरनाथ की जय, बोलो शिव शंकर की जय || भक्तो के मन बसने वाले ये तो सब के स्वामी है | मन चाहा फल......

शिव भजन

शिव की करो आराधना

शिव की करो आराधना | सुनते हैं वो हर प्रार्थना || वो सब के पालनहारे हैं, श्रृष्टि के रचना कार हैं | उनकी शरण मे जो गया, उस भक्त का उधार है |चरणों मे उनके बैठना, हाथो से उनको थामना......

शिव भजन

शंकर मेरा कहाँ है

कंकर कंकर से मैं पूछूं, शंकर मेरा कहाँ है, कोई बताये | शिखर शिखर से पूंछ रही हूँ, शंकर मेरा कहाँ है | गौरी वर, गंगाधर हर हर, शंकर मेरा कहाँ है ||ओ, नील गगन की चन्द्रकला, तू रहती उन......

शिव भजन

भोले नाथ से निराला कोई और नहीं

भोले नाथ से निराला, गौरीनाथ से निराला, कोई और नहीं | ऐसा बिगड़ी बनाने वाला, कोई और नहीं || उन का डमरू डम डम बोले, अगम निगम के भेद खोले | ऐसा भक्तो का रखवाला कोई और नहीं ||काया जब जब......

शिव भजन

शंकर मेरे कब होंगे दर्शन तेरे

ओ शंकर मेरे कब होंगे दर्शन तेरे | जीवन पथ पर, शाम सवेरे छाए है घनघोर अँधेरे || मै मूरख तू अंतरयामी, मै सेवक तू मेरा स्वामी | काहे मुझ से नाता तोडा, मन छोड़ा, मन्दिर भी छोड़ा, कितनी......

शिव भजन

महादेव मेरी लाज रहे

हे महादेव मेरी लाज रहे | मेरी लाज रहे, तेरा राज रहे || जहर कंठ में, नाग गले में, आग नयन में, फिर भी अमृत तुम्ही लुटाते, इस त्रिभुवन में | आज भगत पर भीड़ पड़ी है, फिर तुम कहाँ विराज रहे......

शिव भजन

सुबह सुबह ले शिव का नाम

सुबह सुबह ले शिव का नाम, कर ले बन्दे यह शुभ काम । सुबह सुबह ले शिव का नाम, शिव आयेंगे तेरे काम ॥ खुद को राख लपेटे फिरते, औरों को देते धन धाम । देवो के हित विष पी डाला, नील कंठ को......

शिव भजन

महादेव शंकर हैं जग से निराले

महादेव शंकर हैं जग से निराले, बड़े सीधे साधे बड़े भोले भाले। मेरे मन के मदिर में रहते हैं शिव जी, यह मेरे नयन हैं उनही के शिवालय॥ बनालो उन्हें अपने जीवन की आशा, सदा दूर तुमसे......

Copy Protected by Nxpnetsolutio.com's WP-Copyprotect.