Category - मीराबाई भजन

meera-bhajan

को विरहिणी को दुःख जाणै (ko verhini ko Dhukh jane ho bhajan in Mp3) को विरहिणी को दुःख जाणै हो ।।टेक।। मीराँ के पति आप रमैया, दूजा नहिं कोई छाणै हो रोगी अन्तर वैद बसत है, वैद ही ओखद जाणै हो। सब जग कूडो कंटक दुनिया, दरध न कोई पिछाणै हो को विरहिणी को...

Read More

नयी पोस्ट आपके लिए