आरती संग्रह

अथ रविवार की आरती

Ravivar Vrat

अथ रविवार आरती (Ath Raviwar Aarti in hindi Mp3)

कहुँ लगि आरती दास करेंगे ,सकल जगत जाकी जोत बिराजेसात ।।

समुद्र जाके चरणनि बसे , कहा भयो जल कुम्भ भरे हो राम ।

कोटि भानु जाके नख की शोभा ,कहा भयो मन्दिर दीप धरे हो राम ।

भार अठारह रामा बलि जाके , कहा भयो षिर पुश्पधरे हो राम ।

छप्पन भोग जाके नितप्रति लागे, कहा भयो नैवेद्य धरे हो राम ।

अमित कोटि जाके बाजा बाजे ,कहा भयो झनकार करे हो राम ।

चार वेद जाके मुख की षेभा ,कहा भयो बह्य वेद पढ़े हो राम ।

षिव सनकादि आदि ब्रह्यादिक ,नारद हुनि जाको ध्यान धरें हो राम ।

हिम मंदार जाको पवन झकोरे ,कहा भयो षिव चवँर दुरे हो राम ।

लख चैरासी वन्दे छुड़ाये ,केवल हरियष नामदेव गाये ।। हो राम ।।

सर्व मनोकामनाओ की पूर्ति हेतु रविवार का वर्त श्रेस्ठ है |

इस वर्त की विधि इस प्रकार है:

— प्रात: काल सनानादी से निवृत हो स्वछ वस्त्र धारण करे |

— शांतचित होकर परमात्मा का स्मरण करे |

— भोजन इक समय से ज्यादा नहीं करना चहिये |

— भोजन तथा फलाहार सूर्य के प्रकाश रहते कर लेना चहिये |

— यदि निराहार रहने पर सूर्ये छिप जये तो दूसरे दिन सूर्ये उदय हो जाने पर अर्ध्ये देने के बाद भोजन करना चहिये |

— व्रत के अंत में व्रत कथा सुननी चाहिये |

— व्रत के दोरान नमकीन व तेलयुक्त भोजन कदापि ग्रहण न करें |

— इस व्रत के करने से मान – सम्मान बढता है तथा शत्रुओं का सये होता है |

— आँखों को पीड़ा के अतिरिक्त अन्य सब पीड़ाए दूर होती हैं |

 

Tags

Author’s Choices

हर कष्टों के निवारण के लिए जपे ये हनुमान जी के मंत्र, श्लोक तथा स्त्रोत

सूर्य नमस्कार : शरीर को सही आकार देने और मन को शांत व स्वस्थ रखने का उत्तम तरीका

कपालभाति प्राणायाम : जानिए करने की विधि, लाभ और सावधानियाँ

डायबिटीज क्या है, क्यों होती है, कैसे बचाव कर सकते है और डाइबटीज (मधुमेह) का प्रमाणित घरेलु उपचार

कोलेस्ट्रोल : कैसे करे नियंत्रण, घरेलु उपचार, बढ़ने के कारण और लक्षण

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग : उत्तराखंड के चार धाम यात्रा में सबसे प्रमुख और सर्वोच्च ज्योतिर्लिंग

गृह प्रवेश और भूमि पूजन, शुभ मुहूर्त और विधिपूर्वक करने पर रहेंगे दोष मुक्त और लाभदायक

लघु रुद्राभिषेक पूजा : व्यक्ति के कई जन्मो के पाप कर्मो का नाश करने वाली शिव पूजा

तो ये है शिव के अद्भुत रूप का छुपा गूढ़ रहस्य, जानकर हक्के बक्के रह जायेंगे

शिव मंत्र पुष्पांजली तथा सम्पूर्ण पूजन विधि और मंत्र श्लोक

श्रीगणेश प्रश्नावली यंत्र के 64 अंकों से जानिए अपनी परेशानियों का हल