Category - रत्न और राशि

रत्न और राशि

जीवन मे चहुमुखी खुशिया और तरक्की के लिए लाये घर मे पारद पिरामिड

पारद का प्रत्येक अक्षर एक-एक देवता का प्रतीक है। ‘पारद’ का शाब्दिक अर्थ है-प-विष्णु, अ-कालिका, र-शिव और द-ब्रह्मा। यदि पारद प्रतिमा को मंत्रात्मक क्रियाओं द्वारा चैतन्य......

रत्न और राशि

नवरतनों को धारण करने की विधि और रत्नों से मनोकामना सिद्धि उपाय

सूर्य का रत्न माणिक्यसूर्य ब्राह्मण का केंद्र है । इसकी शाकी से समग्र विश्व अनुप्रणित है । यह ज्योतिष की दृष्टि से आत्मकारक ग्रह है । आत्मबल और इच्छा शक्ति तथा पिता का......

रत्न और राशि

नीलम रत्न – शनि गृह को बलवान करने का सर्वोत्तम उपाय

शनि ग्रह का रत्‍न नीलम, जिसे अंग्रेजी में ‘ब्‍लू सेफायर‘ कहते हैं वास्‍तव में उसी श्रेणी का रत्‍न है जिसमें माणिक रत्‍न आता है। ज्‍योतिष विज्ञान में इसे कुरूंदम समूह......

रत्न और राशि

मोती रत्न – चन्द्रमा को बल और मानसिक शांति का सर्वोत्तम उपाय

वैदिक ज्योतिष के अनुसार चन्द्रमा का प्रत्येक कुंडली में विशेष महत्व है तथा किसी कुंडली में चन्द्रमा का बल, स्वभाव और स्थिति कुंडली से मिलने वाले शुभ या अशुभ परिणामों पर......

रत्न और राशि

माणिक्य रत्न – सूर्य को बल और उसका प्रतिनिधित्व करने वाला अनमोल रत्न

आज के परिवेश में आमतौर पर हर व्यक्ति रत्नों (Gems) के चमत्कारी प्रभावों का लाभ उठा कर अपने जीवन को समृ्द्धिशाली व खुशहाल बनाना चाहता है. रत्न भाग्योन्नति में शीघ्रातिशीघ्र......

रत्न और राशि

जानिए किस माह में जन्मे जातक कैसे होते है

क्या आपका बर्थ डे जनवरी में है ? :- जनवरी में जन्में युवा प्रखर होते हैं, आपका जन्म किसी भी साल के जनवरी माह में हुआ है तो एस्ट्रोलॉजी कहती है आप बेहद आकर्षक और प्रोफेशनल......

रत्न और राशि

जीवन में ऐश्वर्य और सुख के लिए करे शुक्र के उपाय

शुक्र को शुभ करने के उपाय: शुक्र की अशुभता दूर करने के लिए सामथ्र्य अनुसार रुई और दही को मंदिर मेंं दान करना चाहिए। स्त्रीजाति का कभी भी अपमान या निरादर नहीं करना चाहिए......

रत्न और राशि

जानिए नक्षत्रो के अद्भुत संस्कार को

नक्षत्र का सिद्धांत भारतीय वैदिक ज्योतिष में पाया जाता है। यह पद्धति संसार की अन्य प्रचलित ज्योतिष पद्धतियों से अधिक सटीक व अचूक मानी जाती है। आकाश में चन्द्रमा पृथ्वी......

रत्न और राशि

जानिए राशियों से जुड़े नौकरी और व्यवसाय

1.मेष: – पुलिस अथवा सेना की नौकरी, इंजीनियरिंग, फौजदारी का वकील, सर्जन, ड्राइविंग, घड़ी का कार्य, रेडियो व टी.वी. का निर्माण या मरम्मत, विद्युत का सामान, कम्प्यूटर, जौहरी, अग्नि......

Copy Protected by Nxpnetsolutio.com's