Tag - Ashtang yog

मैडिटेशन

ज्ञानयोग – ब्रह्म की अनूभूति होना ही वास्तविक ज्ञान है

ज्ञानयोग क्या है – What Is Gyanyoga ज्ञानयोग से तात्पर्य है – ‘विशुद्ध आत्मस्वरूप का ज्ञान’ या ‘आत्मचैतन्य की अनुभूति’ है। इसे उपनिषदों में ब्रह्मानुभूति...

योगासन

शशांकासन – मानसिक तनाव कम करने का सर्वोत्तम आसान, जाने उचित विधि और लाभ

शशांकासन योग विधि, लाभ और सावधानी Shashankasana Yoga poses : आज का मानव सबसे ज़्यादा तनाव (Depression) और परेशानी से घिरा हुआ है। जिस कारण से वह कई रोगों से घिर...

मैडिटेशन

सद्गुरु ओशो और बुद्ध के अनुसार विपश्यना ध्यान विधि साधना का रहस्य

सद्गुरु ओशो के अनुसार क्या है विपश्यना | What is Vipassana Meditation विपश्यना (Vipassana) आत्मनिरीक्षण द्वारा आत्मशुद्धि की अत्यंत पुरातन साधना-विधि है। जो...

मैडिटेशन

छठी इंद्री (सिक्स्थ सेन्स) को जाग्रत करने के लिए इतने तरीको में से कोई एक ही करले

छठी इंद्री को अंग्रेजी में सिक्स्थ सेंस कहते हैं। इसे परामनोविज्ञान का विषय भी माना जाता है। असल में यह संवेदी बोध का मामला है। छठी इंद्री के बारे में आपने...

मैडिटेशन

पतञ्जलि अष्टांग योग – आत्मा को परमात्मा से जोड़ने की प्रक्रिया

पतंजलि योग सूत्र – Patanjali Yoga Sutras Ashtanga Yoga : गणित की संख्याओं को जोड़ने के लिए भी ‘ yog ‘ शब्द का प्रयोग किया जाता है परन्तु...

मैडिटेशन

योग : आत्मा का परमात्मा से मिलन तथा मन के संशोधनों का दमन ही योग है

परिभाषा : –  योग का शाब्दिक अर्थ है – जोड़, सम्बन्ध या मिलन| प्रत्येक व्यक्ति का किसी न किसी व्यक्ति, वस्तु, वौभव से योग होता ही है| पिता-पुत्र...

Search Kare

सर्वाधिक पढ़ी जाने वाली पोस्ट

bhaktisanskar-english

Subscribe Our Youtube Channel