यात्रा

अम्बलाप्पुज़ह श्री कृष्णा मंदिर

Ambalapuzha_Sri_Krishna_Temple

विरासत के प्राचीन प्रतीक अम्बालापुझा श्री कृष्ण मंदिर को यहाँ के शासक चेम्बकास्सेरी पूरण्डम थिरूनल – देवानरायन थम्पूरन ने 790 ई0 के आसपास बनवाया था। मन्दिर के इष्टदेव पार्थसारथी को एक योद्धा के रूप में दिखाया गया है जिसमें उनके एक हाथ में कोड़ा तथा दूसरे हाथ में शंख है।

शंख को अक्सर भगवान विष्णु या उनके अवतारों का प्रतीक माना जाता है किन्तु अम्बालापुझा श्री कृष्ण मंदिर उन दुर्लभ मन्दिरों में है जिसके इष्टदेव के पास शंख के साथ-साथ कोड़ा भी है। यह मन्दिर पौराणिक रूप से प्रख्यात गुरुवयूरप्पन से भी जुड़ा है।ऐसा माना जाता है कि गुरुवयूरप्पन इस मन्दिर में नैवेद्यम के लिये परोसे जाने वाले कुशलता से बनाये गये दूध-दलिया के भोग के लिये आज भी यहाँ रोज आते हैं। मन्दिर में इष्टदेव की स्थापना की स्मृति में प्रतिवर्ष अम्बालापुझा उत्सव मनाया जाता है। अरट्टू उत्सव यहाँ पर मनाया जाने वाला एक और वार्षिक त्योहार है।
{youtube}KNv3N20_w1E{/youtube}

Author’s Choices

हर कष्टों के निवारण के लिए जपे ये हनुमान जी के मंत्र, श्लोक तथा स्त्रोत

सूर्य नमस्कार : शरीर को सही आकार देने और मन को शांत व स्वस्थ रखने का उत्तम तरीका

कपालभाति प्राणायाम : जानिए करने की विधि, लाभ और सावधानियाँ

डायबिटीज क्या है, क्यों होती है, कैसे बचाव कर सकते है और डाइबटीज (मधुमेह) का प्रमाणित घरेलु उपचार

कोलेस्ट्रोल : कैसे करे नियंत्रण, घरेलु उपचार, बढ़ने के कारण और लक्षण

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग : उत्तराखंड के चार धाम यात्रा में सबसे प्रमुख और सर्वोच्च ज्योतिर्लिंग

गृह प्रवेश और भूमि पूजन, शुभ मुहूर्त और विधिपूर्वक करने पर रहेंगे दोष मुक्त और लाभदायक

लघु रुद्राभिषेक पूजा : व्यक्ति के कई जन्मो के पाप कर्मो का नाश करने वाली शिव पूजा

तो ये है शिव के अद्भुत रूप का छुपा गूढ़ रहस्य, जानकर हक्के बक्के रह जायेंगे

शिव मंत्र पुष्पांजली तथा सम्पूर्ण पूजन विधि और मंत्र श्लोक

श्रीगणेश प्रश्नावली यंत्र के 64 अंकों से जानिए अपनी परेशानियों का हल