शिव स्तुति

अगस्त्याष्टकम्

shiva

अद्य मे सफलं जन्म चाद्य मे सफलं तपः ।

अद्य मे सफलं ज्ञानं शम्भो त्वत्पाददर्शनात् ॥ १॥

 कृतार्थोऽहं कृतार्थोऽहं कृतार्थोऽहं महेश्वर ।

अद्य ते पादपद्मस्य दर्शनात्भक्तवत्सल ॥ २॥

 शिवश्शम्भुः शिवश्शम्भुः शिवश्शम्भुः शिवश्शिवः ।

इति व्याहरतो नित्यं दिनान्यायान्तु यान्तु मे ॥ ३॥

 शिवे भक्तिश्शिवे भक्तिश्शिवे भक्तिर्भवेभवे ।

सदा भूयात् सदा भूयात्सदा  भूयात्सुनिश्चला ॥ ४॥

 आजन्म मरणं यस्य महादेवान्यदैवतम् ।

माजनिष्यत मद्वंशे जातो वा द्राग्विपद्यताम् ॥ ५॥

 जातस्य जायमानस्य गर्भस्थस्याऽपि देहिनः ।

माभून्मम कुले जन्म यस्य शम्भुर्न-दैवतम् ॥ ६॥

 वयं धन्या वयं धन्या वयं धन्या जगत्त्रये ।

आदिदेवो महादेवो यदस्मत्कुलदैवतम् ॥ ७॥

 हर शम्भो महादेव विश्वेशामरवल्लभ ।

शिवशङ्कर सर्वात्मन्नीलकण्ठ नमोऽस्तु ते ॥ ८॥

 अगस्त्याष्टकमेतत्तु यः पठेच्छिवसन्निधौ ।

शिवलोकमवाप्नोति शिवेन सह मोदते ॥ ९॥

 ॥ इत्यगस्त्याष्टकम् ॥

 

Author’s Choices

हर कष्टों के निवारण के लिए जपे ये हनुमान जी के मंत्र, श्लोक तथा स्त्रोत

सूर्य नमस्कार : शरीर को सही आकार देने और मन को शांत व स्वस्थ रखने का उत्तम तरीका

कपालभाति प्राणायाम : जानिए करने की विधि, लाभ और सावधानियाँ

डायबिटीज क्या है, क्यों होती है, कैसे बचाव कर सकते है और डाइबटीज (मधुमेह) का प्रमाणित घरेलु उपचार

कोलेस्ट्रोल : कैसे करे नियंत्रण, घरेलु उपचार, बढ़ने के कारण और लक्षण

केदारनाथ ज्योतिर्लिंग : उत्तराखंड के चार धाम यात्रा में सबसे प्रमुख और सर्वोच्च ज्योतिर्लिंग

गृह प्रवेश और भूमि पूजन, शुभ मुहूर्त और विधिपूर्वक करने पर रहेंगे दोष मुक्त और लाभदायक

लघु रुद्राभिषेक पूजा : व्यक्ति के कई जन्मो के पाप कर्मो का नाश करने वाली शिव पूजा

तो ये है शिव के अद्भुत रूप का छुपा गूढ़ रहस्य, जानकर हक्के बक्के रह जायेंगे

शिव मंत्र पुष्पांजली तथा सम्पूर्ण पूजन विधि और मंत्र श्लोक

श्रीगणेश प्रश्नावली यंत्र के 64 अंकों से जानिए अपनी परेशानियों का हल