राजस्थानी भजन

आरती और श्रृंगार

meera-bai

आरती और श्रृंगार (Aarti aur shringar bhajan in  hindi Mp3 )

आरती का पद

सुन्दर संवरा हो ब्रज राज छोगो लटके |

गिरधर पातलिया हो गंगश्याम छोगो लटके | टेर |

ओ छोगो गंगश्यामजी ने सोहे सांवरा , बड़ा -बड़ा मुनिजन

हरखे | वारी हो सांवरा बड़ा – बड़ा साधुजन निरखे |1|

द्वारिकारा रेवंनिया सांवरा मंदरिये पधारोरे हाथिड़ोरे हलके

वारी हो सांवरा धोड्लिया रे धमके |2|

मारे मुकुट पीताम्बर सोहे सांवरा मंदरिये पधारोरे हाथिड़ोरे हाथिड़ोरे हलके

वारी हो सांवरा धोड्लिया रे धमके |3|

मारे मुकुट पीताम्बर सोहे सांवरा , कानो में कुंडल चिलके |

चारो हो सांवरा कानो में मोतीडा जलके |4|

मात यशोदाजी रो माखन चोरियों सांवरा , खायग्यो हैं बालों पल में

वारी हो सांवरा खाय गयों बालो छीन में |5|

थाल भरे मोत्यांसू आरती संजोउरे सां. जोऊ मारे गंग. रेलटके

वारी हो सांवरा जोऊ म्हारा छोगाजी रे लटके |6|

नर्सिड़े रो स्वामी सांवरियो बाला , दर्शन देवो माने पल में |

वारी हो सांवरा कारज सारो मोरो छीन में |7|

श्रृंगार के पद

टाओ मिलो सहेलिया ए निरखो श्री नन्द कुवार |

प्रीत करे ने प्रभु निरख्यो ए , पुरुषोतम प्राण आधार | टेर |

सिंघासन सोहे हरी रे सोहनो ए , हीरे रतन जदय |

बिच बिच चुनियो जिगमिगे ए , ज्यो रो तेज अपार |1|

श्रृंगार सजियो वृज सुंदरी ए , चलो बाबे नन्द रे दरबार

मुक्ता थाल हीरा भरियो ए, बाधाओ श्री मोटो गंगश्याम ||2||

माघवदास री बिनती ए , राखो मोने चरणों रे पास |

माघवदास सदा सुखी ए , दीजो मोने गोकुल रे बास |

दीजो मोने बेकुंठो रो बास , राखो रास लख चोरासी टाल | 3|

मस्तक धरदो हाथ , चित चरणों में राख |

अब तो जनम सुधार , भव सागर में बेडो पार उतार |4|

About the author

Aaditi Dave

Hello Every One, Jai Shree Krishna, as I Belong To Brahman Family I Got All The Properties of Hindu Spirituality From My Elders and Relatives & Decided To Spreading All The Stuff About Hindu Dharma's Devotional Facts at Only One Roof.

Add Comment

Click here to post a comment

नयी पोस्ट आपके लिए