श्री कृष्णा भजन

अंखियाँ हरि दरसन

krishana-bhajan

अंखियाँ हरि दरसन (Akhiyo hari Darshan bhajan in hindi Mp3)

अंखियाँ हरि दरसन की प्यासी।

देख्यौ चाहति कमलनैन कौ,

निसि-दिन रहति उदासी।।

आए ऊधै फिरि गए आँगन,

डारि गए गर फांसी।

केसरि तिलक मोतिन की माला,

वृन्दावन के बासी।।

काहू के मन को कोउ न जानत,

लोगन के मन हांसी।

सूरदास प्रभु तुम्हरे दरस कौ,

करवत लैहौं कासी।।

 

About the author

Aaditi Dave

Hello Every One, Jai Shree Krishna, as I Belong To Brahman Family I Got All The Properties of Hindu Spirituality From My Elders and Relatives & Decided To Spreading All The Stuff About Hindu Dharma's Devotional Facts at Only One Roof.

क्या आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी ?

error: Content is protected !!