Archive - 2018

हिन्दू धर्म

दत्तात्रेय जयंती व्रत कथा और पूजा मुहूर्त 2018

दत्तात्रेय जयंती~Dattatreya Jayanti दत्तात्रेय जयंती को दत्त जयंती भी कहा जाता है, इस दिन भगवान दत्तात्र्य (दत्त) के जन्मदिन को मनाते है, हिंदू धर्म में भगवान दत्तात्रेय को त्रिदेव ब्रह्मा, विष्णु और महेश का एकरूप माना गया है। धर्म ग्रंथों के अनुसार श्री दत्तात्रेय भगवान विष्णु के छठे अवतार हैं। वह आजन्म ब्रह्मचारी और अवधूत रहे इसलिए वह सर्वव्यापी कहलाए। यही कारण है कि तीनों ईश्वरीय शक्तियों से समाहित भगवान दत्तात्रेय की आराधना बहुत ही सफल......

हिन्दू धर्म

मोक्षदा एकादशी 2018 – जाने महत्व और पूजा करने की विधि

मोक्षदा एकादशी 2018 – जाने महत्व और पूजा करने की विधि 18 दिसंबर 2018 को गीता जयंती के साथ मोक्षदा एकादशी भी मनाई जा रही है. मार्गशीर्ष मास के शुक्लपक्ष की एकादशी को मोक्षदा एकादशी कहा जाता है, मान्यता है इस दिन व्रत करने से मृत्यु के बाद मोक्ष की प्राप्ति होती है. इस व्रत का पालन करने से पितरों को मुक्ति मिलती है और मोक्ष प्राप्त होता है, इसी दिन महाभारत काल के समय भगवान कृष्ण ने अर्जुन को उपदेश दिया था जब अर्जुन इस बात से विचलित हो गए थे......

हिन्दू धर्म

विवाह पंचमी 2018 – प्रभु श्री राम व माता सीता के विवाह की वर्षगांठ और अद्भुत संयोग

विवाह पंचमी 2018 – प्रभु श्री राम व माता सीता के विवाह की वर्षगांठ और अद्भुत संयोग दिनांक 12 दिसंबर 2018 को विवाह पंचमी है। श्रवण नक्षत्र है और चंद्रमा मकर राशि में है। इस दिन कोई अभिजीत मुहूर्त नहीं मिलेगा। सूर्य वृश्चिक में गोचर कर रहे हैं साथ ही गुरु भी वृश्चिक में ही हैं। माता सीता तथा प्रभु श्री राम के विवाह की वर्षगांठ के रूप में यह महान पर्व मनाया जाता है। इस दिन विवाह करने से कन्या का सुहाग अखंड रहता है। ऐसी मान्यता है कि विवाह पंचमी के......

भक्ति

भगवान की आरती करते समय क्यों बजाई जाती है ताली?

मानव का जीवन न जाने कितने सवालों से भरा है, हर चीज में एक सवाल है, जिनमें से कई चीजों से जुड़े सवाल तो अभी तक रहस्य बने हुए हैं। ऐसे ही अगर हिन्दू धर्म कि बात करें, तो यहां पर जब हम किसी भी भगवान कि पूजा-अर्चना करते हैं, तो तालियां बजाते हुए उनकी आराधना करते हैं और यह आज से नहीं बल्कि सदियों से चली आ रही एक परंपरा है, उसे ही देखते हुए आज तक लोग तालियां बजाते हुए भगवान की पूजा अर्चना करते हैं। लेकिन इन सब के पीछे क्या कभी आपने यह जानने कि कोशिश की......

हिन्दू धर्म

मार्गशीर्ष अमावस्या 2018 – अगहन अमावस्या का महत्व व व्रत पूजा विधि

मार्गशीर्ष अमावस्या 2018 – Margashirsha Amavasya  मार्गशीर्ष माह को हिंदू धर्म में काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। इसे अगहन मास भी कहा जाता है यही कारण है कि मार्गशीर्ष अमावस्या को अगहन अमावस्या भी कहा जाता है। वैसे तो प्रत्येक अमावस्या का अपना खास महत्व होता है और अमावस्या तिथि स्नान-दान-तर्पण आदि के लिये जानी जाती है। लेकिन चूंकि मार्गशीर्ष माह के बारे में स्वयं श्री कृष्ण कहते हैं कि महीनों में वह मार्गशीर्ष हैं इसका महत्व और अधिक बढ़ जाता है।......

हिन्दू धर्म

उत्पन्ना एकादशी 2018 – जानिये उत्पन्ना एकादशी व्रत कथा व पूजा विधि

उत्पन्ना एकादशी 2018 – Utpanna Ekadashi वर्ष 2018 में उत्पन्ना एकादशी (Utpanna Ekadashi Vrat) का व्रत 03 दिसंबर को है। एकादशी व्रत कथा व महत्व के बारे में तो सभी जानते हैं। हर मास की कृष्ण व शुक्ल पक्ष को मिलाकर दो एकादशियां आती हैं। यह भी सभी जानते हैं कि इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। लेकिन यह बहुत कम जानते हैं कि एकादशी एक देवी थी जिनका जन्म भगवान विष्णु से हुआ था। एकादशी मार्गशीर्ष मास की कृष्ण एकादशी को प्रकट हुई थी जिसके......

हिन्दू धर्म

मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार

मार्गशीर्ष – जानिये मार्गशीर्ष मास के व्रत व त्यौहार चैत्र जहां हिंदू वर्ष का प्रथम मास होता है तो फाल्गुन महीना वर्ष का अंतिम महीना होता है। महीने की गणना चंद्रमा की कलाओं के आधार पर की जाती है इसलिये हर मास को अमावस्या और पूर्णिमा की तिथियों तक कृष्ण और शुक्ल पक्ष में विभाजित किया गया है। पूर्णिमा के बाद की प्रथम तिथि से लेकर अमावस्या तक के काल को कृष्ण पक्ष कहा जाता है और अमावस्या के बाद प्रथम तिथि से लेकर पूर्णिमा तक शुक्ल पक्ष। पूर्णिमा को......

भक्ति

नारद जी द्वारा अर्जुन को बतलाया गया ब्रह्माण्ड के सभी लोको के गूढ़ रहस्य

अर्जुन द्वारा ब्रह्माण्ड और उसके विभिन्न लोको के बारे में पूछे गए प्रश्नो के उत्तर देवमुनि नारद जी ने बड़ी सरलता से देते हुवे समझाया की  – कुरुश्रेष्ठ ! भूमि से लाख योजन ऊपर सूर्य मंडल है । भगवान् सूर्य के रथ का विस्तार नौ सहस्त्र योजन है । इसकी धुरी डेढ़ करोड़ साढ़े सात लाख योजन की है । वेद  के जो सात छंद हैं वे ही सूर्य के रथ के सात अश्व हैं । उनके नाम सुनो – गायत्री, वृहती, उष्णिक, जगती, त्रिष्टुप, अनुष्टुप और षडंक्ति – ये छंद ही सूर्य के घोड़े......

राशिफल 2019

मेष राशिफल 2019 – मेष राशि 2019 कैसा रहेगा भविष्यफल

मेष राशिफल 2019 – Mesh Rashifal 2019 in Hindi वर्ष 2019 के राशिफल के अनुसार इस साल नौकरी और बिजनेस में आपको मिले-जुले परिणाम मिलेंगे। आप अपनी मेहनत और प्रयासों से उन्नति करेंगे। यदि नौकरी पेशा हैं तो इस वर्ष आपकी पदोन्नति की संभावना है। करियर को आगे ले जाने में भाग्य आपका साथ देगा। लेकिन आर्थिक स्थिति में उतार-चढ़ाव की परिस्थितियाँ नज़र आएंगी। अपनी लव लाइफ में आपको थोड़ा सचेत करने की जरुरत है क्यों की जहा प्रेम भाव आता है वह अहम भाव की कतई......

राशिफल 2019

वृषभ राशिफल 2019 – वृषभ राशि 2019 कैसा रहेगा भविष्यफल

वृषभ राशिफल 2019 – Vrishabh Rashifal 2019 in Hindi वृषभ राशिफल 2019 के अनुसार इस साल करियर के क्षेत्र में आपको काफी संघर्ष करना पड़ सकता है। अच्छे नतीजे चाहिए तो आपको कड़ी मेहनत करनी होगी। आपके आर्थिक जीवन की दृष्टि से यह साल धन संबंधी मामलों के लिहाज से सामान्य से बेहतर रहेगा। हालांकि खर्च बढ़ने के भी योग है । परन्तु निराश न हो इस साल आमदनी में बढ़ोत्तरी के योग भी बन रहे हैं। वर्ष के पहले 6 महीनों में आर्थिक स्थिति मजबूत होगी। रही बात आपकी......