t>

हनुमान जी को सिंदूर अति प्रिय क्‍यों है

हनुमानजी को सिंदूर क्यों चढ़ाया जाता है ? हनुमानजी को सिंदूर चढ़ाने के संदर्भ में अद्भुत रामायण में एक घटना का उल्लेख मिलता है। इस घटना के अनुसार मंगलवार की … Read more

जानें अनंत चतुर्दशी की कथा, महत्व और पूजा विधि

अनंत चतुर्दशी व्रत विधान क्यों? पौराणिक मान्यता के अनुसार अनंत चतुर्दशी व्रत की शुरुआत महाभारत काल से हुई थी. यह भगवान विष्णु का दिन माना जाता है. ये व्रत भगवान … Read more

गणेश चतुर्थी का पौराणिक महत्व और कथा

गणेश चतुर्थी व्रत का महत्व क्यों? इसे ‘संकष्ट श्रीगणेश चतुर्थी व्रत’ भी कहते हैं। वैसे तो यह व्रत प्रत्येक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को किया जाता है, लेकिन … Read more

विवाहित स्त्रियां अपनी मांग में सिंदूर क्यों सजाती हैं

सुहागिनों का प्रतीक है सिंदूर, जानिए सौभाग्यवती स्त्रियां अपनी मांग में इसे क्यों लगाती हैं? मांग में सिंदूर सजाना सुहागिन स्त्रियों का प्रतीक माना जाता है। यह जहां मंगलदायक माना … Read more

जानिए हिंदू धर्म में निष्क्रमण संस्कार का महत्त्व

निष्क्रमण संस्कार क्यों किया जाता है? ‘निष्क्रमण’ शब्द का शाब्दिक अर्थ है बाहर निकालना। शिशु को जब पहली बार घर से बाहर निकाला जाता है, उस समय संपन्न होने वाला … Read more

रक्षाबंधन धार्मिक महत्व और कुछ चर्चित कथाएं

रक्षाबंधन का क्या महत्व है यह पर्व प्रतिवर्ष श्रावण मास के शुक्लपक्ष की पूर्णिमा को बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। यह त्योहार भाई के प्रति बहन के पवित्र … Read more

प्रदोष व्रत कथा और पूजन विधि

प्रदोष व्रत क्यों? प्रदोष शिव व्रत है। प्रदोष काल सूर्यास्त के बाद प्रारंभ होता है। इसमें उस कालावधि तक उपवास रखकर शिव पूजा करके उपवास समाप्त किया जाता है। प्रदोष … Read more

मूलाधार चक्र जागृत करने की सरल विधि

मूलाधार चक्र – Root Chakra मानव शरीर में सात चक्र होते हैं सबसे पहला है मूलाधार इसमें गणेश जी देवता है और देवी काली हैं । साधना में सर्वप्रथम कुंडलिनी … Read more

रजोगुण और तमोगुण मिट जाएं तो मन सत्व से पूर्ण हो जाए

विशुद्ध मन ही वासुदेव है ध्यान से सुनो और इसे जीवन में याद रखो कि सत्संग पुरुषार्थ का फल नहीं, बल्कि वह भगवान की कृपा से मिलता है। यत्न से … Read more

योगी और भोगी

योगी और भोगी के परस्पर विरोधी संस्कार गीता के दूसरे अध्याय में कृष्ण ने कहा है, ‘जो सभी प्राणियों के लिए रात्रि है, उस समय योगी जागकर अपना काम करता … Read more